पाकिस्तान का भारतीय टेनिस कोच

बीरबल
Image caption बीरबल पाकिस्तानी युवा खिलाड़ियों की कोचिंग कर रहे हैं.

पाकिस्तान टेनिस फ़ेडरेशन ने राजधानी इस्लामाबाद में एक टेनिस कैंप लगाया है, जिसमें पहली बार एक भारचीय कोच बीरबल वधेरा की सेवाएँ हासिल की हैं.

यह कैंप 35 दिनों तक जारी रहेगा, जिसमें पूरे देश के क़रीब 25 खिलाड़ियों को टेनिस की कोचिंग दी जा रही है और इस का उद्देश्य पाकिस्तान में टेनिस के खेल को बढ़ावा देना है.

बीरबल वधेरा चंडीगढ़ क्लब एकेडमी और आइडियल टेनिस एकेडमी पंचकुला के चीफ़ कोच हैं और वे भारत की नेशनल टेनिस एकेडमी में बतौर कोच भी काम कर चुके हैं.

काम को देखते हुए पाकिस्तान टेनिस फ़ेडरेशन ने बीरबल वधेरा को कोचिंग के लिए बुलाया और वे कहते हैं कि पाकिस्तान में कोचिंग करना उनके लिए सम्मान की बात है.

उन्होंने बीबीसी को दिए गए एक इंटरव्यू में कहा, “पाकिस्तान के खिलाड़ी और जनता बहुत बढ़िया हैं और मुझे ख़ुशी है कि उन्होंने मेरे काम की प्रशंसा की है और मीडिया ने भी मेरे काम को जनता तक पहुँचाया है.”

'पाक में प्रतिभा की कमी नहीं'

उन्होंने बताया कि पाकिस्तान में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है और जहाँ तक भारत के साथ तुलना की बात है तो भारत के खिलाड़ियों को काफ़ी अवसर मिलते हैं जबकि पाकिस्तानी खिलाड़िओं को ऐसे अवसर कम मिलते हैं.

उन्होंने कहा कि अगर पाकिस्तान के खिलाड़ियों को बाहर खेलने का मौक़ा मिलेगा, तो उनके खेल में निखार आएगा.

बीरबल वधेरा ने बताया कि जब ओसामा बिन लादेन की मौत हुई, तो उनके परिजनों और दोस्तों ने उन्हें पाकिस्तान जाने से रोक था लेकिन उन्होंने पाकिस्तान आने का फ़ैसला कर लिया था.

उन्होंने कहा, “मेरे विचार में मेरे इस फ़ैसले से काफ़ी लोगों को पाकिस्तान आने का अवसर मिलेगा और यहाँ के कुछ लोगों को भी भारत जाने का मौक़ा मिलेगा. इससे दोनों देशों के संबंध ओर बेहतर होंगे और मुझे उम्मीद है कि मेरी इस छोटी से पहल से दोनों देशों के लोग ओर क़रीब आएँगे.”

बीरबल वधेरा उन खिलाड़ियों से बहुत आशान्वित हैं, जिनको वे टेनिस की कोचिंग दे रहे हैं. उन्हें उम्मीद है कि इनमें से कोई खिलाड़ी पाकिस्तान का नाम रोशन करेंगे.

'खिलाड़ियों पर गर्व'

Image caption बीरबल 25 नए खिलाड़ियों को टेनिस सिखा रहे हैं.

उन्होंने बताया, “जैसे कोई बच्चा कामयाब होता है तो उनकी माँ गर्व करती है, मेरा कोई भी खिलाड़ी अगर विश्व स्तर पर पाकिस्तान का नाम रोशन करेगा, तो मैं भी काफ़ी गर्व महसूस करुँगा.”

पाकिस्तान टेनिस फ़ेडरेशन के अध्यक्ष सैयद कलीम इमाम ने बताया कि भारतीय कोच से खिलाड़ियों को काफ़ी फ़ायदा हो रहा है और बाद में दूसरे देशों के कोच की भी सेवाएँ ली जाएँगी.

उन्होंने कहा कि भारतीय कोच बीरबल वधेरा के आने से दोनों देशों के संबंध ओर बेहतर होंगे और उन्हें उम्मीद है कि भविष्य में भारत और पाकिस्तान के बीच टेनिस का मैच होगा.

उन्होंने बताया कि भारत और पाकिस्तान के बीच संबंधों को ओर बेहतर बनाने के लिए पाकिस्तान टेनिस फ़ेडरेशन पाकिस्तानी खिलाड़ी ऐसामुल हक़ क़ुरैशी और भारतीय खिलाड़ी रोहन बोप्पना के बीच वाघा सीमा पर मैच करवाने की कोशिश कर रहा है.

संबंधित समाचार