अफ़रीदी की ज़रदारी से मदद की गुहार

शाहिद अफ़रीदी इमेज कॉपीरइट Getty

पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेट कप्तान शाहिद अफ़रीदी ने राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी से मदद की गुहार लगाई है और पाकिस्तान क्रिकेट को संकट से उबारने की अपील की है.

शाहिद अफ़रीदी के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद बुधवार को पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने उनका अनुबंध समाप्त कर दिया था.

अपने साथ हुए बर्ताव से खिन्न होकर 31 वर्षीय शाहिद अफ़रीदी ने बोर्ड के वर्तमान सदस्यों पर हमला बोलते हुए कहा था कि यह लोग पाकिस्तानी क्रिकेट पर कलंक हैं.

शाहिद अफ़रीदी ने समाचार एजेंसी एऍफ़पी को बताया, "मैंने राष्ट्रपति ज़रदारी से इस मामले में हस्तक्षेप करने का आग्रह किया है. उनसे ये भी अनुरोध किया है कि पाकिस्तान क्रिकेट को और ज्यादा संकट में जाने से बचाएँ."

शाहिद अफ़रीदी के संन्यास की घोषणा करने के तुरंत बाद पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने उनका अनुबंध समाप्त कर दिया था.

इस फ़ैसले के बाद शाहिद अफ़रीदी को विदेश में भी क्रिकेट खेलने की आधिकारिक इजाज़त नहीं मिल सकेगी.

नतीजन शाहिद अफ़रीदी न तो इंग्लैंड की 20-20 लीग में हैम्प्शायर की तरफ से खेल सकेंगे और न ही अगले महीने शुरू हो रही श्रीलंका प्रीमियर लीग में.

बढ़ता समर्थन

पाकिस्तान में विपक्षी दल पाकिस्तान मुस्लिम लीग-एन ने अफ़रीदी के साथ किए गए बर्ताव के विरोध में संसद स्थगन प्रस्ताव प्रस्तुत किया है.

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption इमरान खा़न अफ़रीदी के समर्थन में आगे आए हैं.

उधर पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेट कप्तान इमरान खा़न ने कहा है कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड का संचालन पेशेवर तरीके से नहीं किया जा रहा है.

इमरान खा़न ने कहा, "अफ़रीदी को लगता है कि उनके साथ अन्याय हुआ इसलिए उन्होंने ये क़दम उठाया.वैसे भी एक साल के भीतर आप चार-पांच कप्तान नियुक्त नहीं कर सकते."

राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी के नेतृत्व वाली साझा सरकार का हिस्सा मुत्ताहिदा कौ़मी मूवमेंट (एमक्यूएम) ने भी अफ़रीदी के खिलाफ लगाए गए प्रतिबंधों पर विरोध जताया है.

उधर पाकिस्तान के खेल मंत्री शौक़तउल्लाह खा़न ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष ईजाज़ बट्ट की तीखी आलोचना की है.

खेल मंत्री ने भरोसा दिलाया है कि वह इस मामले पर पाकिस्तान के प्रधान मंत्री युसूफ रज़ा गिलानी से विचार विमर्श करेंगे.

संबंधित समाचार