'डोपिंग मामले में मेरी भूमिका नहीं'

भारतीय धावक इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption डोपिंग में आठ धावक पोज़िटिव पाए गए

भारत के बर्ख़ास्त एथेलेटिक्स कोच यूक्रेन के यूरी ओगरोदनिक ने डोपिंग मामले में किसी भी तरह की भूमिका से इनकार किया है.

यूरी ओगरोदनिक ने डोपिंग टेस्ट में फ़ेल हुए आठ में से छह एथलीटों को प्रशिक्षण दिया था.

इनमें से तीन 2010 के राष्ट्रमंडल खेल और एशियन गेम्स में महिलाओं के 4x400 मीटर रिले रेस में स्वर्ण पदक जीतने वाली टीम में थीं.

उनमें से एक ने कहा है कि हो सकता है कि खाने मे कोई चीज़ हो, जिससे वे डोप टेस्ट में फ़ेल हो गईं.

प्रतिबंधित दवाइयाँ

यूरी ओगरोदनिक ने दो साल से ज़्यादा वक़्त भारतीय टीम के साथ गुज़ारा है.

भारत के खेल प्राधिकरण को ये पता लगाने के लिए कहा गया है कि आख़िर ये प्रतिबंधित दवाइयाँ पटियाला की ट्रेनिंग कैंप में कैसे पंहुची.

कोच का कहना है कि उन्होंने एथलीटों को केवल फूड सप्लीमेंट ख़रीदने के लिए कहा था, शक्तिवर्धक दवाइयाँ नहीं.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार उनका कहना था, "मैं इतना मूर्ख नहीं हूं कि मै एथलीटों को प्रतिबंधित दवाइयाँ ख़रीदने के लिए कहूंगा. मैंने केवल मेडल दिए हैं, शक्तिवर्धक दवाइयाँ नहीं."

बर्ख़ास्त धावक मनदीप कौर ने ये कहा है कि शायद फ़ूड स्पलीमेंट के कारण वे डोप टेस्ट में फ़ेल हो गई हों. उनका कहना था कि वे पागल होंगी अगर अपना प्रदर्शन बेहतर करने के लिए उन्होंने दवाइयों का सहारा लेने का सोचा होगा.

जो आठ एथलीट पिछले सप्ताह पोज़िटीव पाए गए उनके नाम हैं मनदीप कौर, सिनी जोस, जोएना मुर्मू, अश्विनी अकुंजी, टियना मेरी टॉमस, हरी कृष्णा, सोनिया और प्रियंका पँवर.

संबंधित समाचार