अश्विनी, प्रियंका का सपना टूटेगा?

अश्विनी अकुंजी, मंजीत कौर, मंदीप कौर और सिनी जोसे इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption अश्विनी अकुंजी फिर से डोप टेस्ट में फ़ेल हुईं

भारतीय एथलीट अश्विनी अकुंजी का अगले साल लंदन में होने वाले ओलंपिक खेलों में हिस्सा लेने का सपना अब शायद ही पूरा हो पाए.

डोप टेस्ट में उनका बी सैंपल भी पॉजिटिव पाया गया है. अब उन पर दो साल का प्रतिबंध लग सकता है.

एक अन्य धावक प्रियंका पंवार के बी नमूने में भी एनाबॉलिक स्टेरॉयड पाए गए हैं.

अश्विनी और प्रियंका के बी नमूने का परीक्षण बृहस्पतिवार को नेशनल डोप टेस्टिंग लैबोरेटरी या नाडा में हुआ था और सोमवार उसके परिणाम सामने आए जिनके अनुसार उनके नमूने में मेथैनडियोनन पाया गया.

एथलेटिक्स फ़ेडरेशन ऑफ़ इंडिया (एएफ़आई) के निदेशक एमएल डोगरा ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया, "हमें नाडा से काग़ज़ात मिले हैं जिसमें अश्विनी और प्रियंका के बी नमूनों में वही एनाबॉलिक स्टेरॉयड पाए गए जो उनके ए नमूने में पाए गए थे."

निलंबन

अब अश्विनी और प्रियंका को नेशनल डोप टेस्टिंग लैबोरेटरी के आनुशासनिक पैनल के सामने पेश होना पड़ेगा.

एथलेटिक्स फ़ेडरेशन ऑफ़ इंडिया ने दोनों खिलाड़ियों को नाडा पैनल का फ़ैसला आने तक अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया है.

अश्विनी ने एशियन खेलों में हुई 400 मीटर की बाधा दौड़ में और 4 गुना 400 रिले दौड़ में दो स्वर्ण पदक जीते थे लेकिन अब उनका 2012 के ओलंपिक खेलों में हिस्सा लेना लगभग असंभव हो गया है.

यही नहीं वो 27 अगस्त से चार सितंबर तक दक्षिण कोरिया में होने वाली विश्व चैम्पियनशिप में भी हिस्सा नहीं ले पाएंगी. हालांकि उन्होने 400 मीटर की बाधा दौड़ के लिए क्वालिफ़ाई कर लिया था.

अश्विनी की स्वर्ण पदक जीतने वाली टीम की मनदीप कौर और सिनी जोसे दोनों डोप टैस्ट में फ़ेल हुई थीं.

पिछले कुछ दिनों में भारत के आठ एथलीट डोप टेस्ट में फ़ेल हुए हैं.

संबंधित समाचार