क्रिकेट का पहला टेस्ट मैच

क्रिकेट स्टम्स

इंग्लैंड और भारत के बीच चल रहा टेस्ट मैच क्रिकेट इतिहास का 2000वाँ टेस्ट है.

पहला आधिकारिक टेस्ट मैच 15 मार्च 1877 को मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर इग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच हुआ था. ये मैच ऑस्ट्रेलिया ने 45 रनों से जीता था.

इंग्लैंड के अल्फ़्रेड शॉ ने टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में पहली गेंद डाली थी और उनके सामने थे ऑस्ट्रेलिया के चार्ल्स बैनरमेन. बैनरमेन बाद में टेस्ट क्रिकेट की पहली सेंचुरी बनाने वाले खिलाड़ी भी बने.

बैनरमेन ने इस मैच में 165 रन बनाए और वे आउट नहीं हुए बल्कि रिटायर्ड हर्ट यानि घायल होने के बाद पैवेलियन लौटे. ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज़ यूलियेट की गेंद पर उनकी एक उंगली फट गई और उन्हें मैदान छोड़ना पड़ा.

बैनरमेन का 165 रनों का स्कोर सात साल तक टेस्ट क्रिकेट का सर्वोच्च स्कोर रहा. ये रिकॉर्ड तोड़ा 1884 में बिली मर्डोक ने एक दोहरा शतक लगाकर.

कोई समय सीमा नहीं

इसी मैच में ऑस्ट्रेलिया के बिली मिडविंटर ने टेस्ट क्रिकेट में पहली बार पांच विकेट लिए. इसके बाद इसी मैच इंग्लैंड के अल्फ़्रेड शॉ ने पांच और ऑस्ट्रेलिया टॉम कैंडल ने सात विकेट लिए.

इस टेस्ट मैच में 49 साल के जेम्स सदरटन भी खेले. सबसे उम्रदराज़ टेस्ट खिलाड़ी के रूप में उनका रिकॉर्ड अब तक बरक़रार है.

इस मैच की ख़ास बात ये थी कि इसकी कोई समयसीमा तय नहीं थी. दोनों टीमों को दो-दो पारियां खेलनीं थी, चाहे इसमें कितने भी दिन लगें.

टॉस ऑस्ट्रेलिया ने जीता और पहले बल्लेबाज़ी का फ़ैसला किया. ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में बैनरमेन की सेंचुरी की बदौलत 245 रन बनाए. इसके जवाब में इंग्लैंड की टीम 196 रनों पर आउट हो गई. ऑस्ट्रेलिया ने दूसरी पारी में बैनरमेन चल नहीं पाए और उनकी सारी 104 रनों पर आउट हो गई.

दूसरी पारी में इंग्लैंड को मैच जीतने के लिए महज़ 153 रन बनाने थी लेकिन उनकी सारी टीम 108 रन बनाकर आउट हो गई.

ये मैच चार दिनों तक चला. मैच के पहले दिन 4500 दर्शक स्टेडियम में जमा हुए.

भारत का पहला मैच

भारत ने अपना पहला टेस्ट मैच 25 जून 1932 को लॉर्ड्स के मैदान में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ खेला था. ये मैच इंग्लैंड ने 158 रनों से जीता था.

गुरुवार से शुरू हुआ भारत इंग्लैंड टेस्ट दोनों टीमों के बीच 100 वां मैच है.

भारत के पहले टेस्ट मैच में इंग्लैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी का फ़ैसला किया था. इंग्लैंड के पहली पारी के 259 रनों के स्कोर के जवाब में भारतीय टीम 189 रन ही बना पाई थी.

इसके बाद इंग्लैंड ने दूसरी पारी में 275 रन बनाए लेकिन भारतीय टीम दूसरी पारी में भी कुछ ख़ास नहीं कर पाई और 187 रन बनाकर आउट हो गई.

इस मैच में भारतीय टीम की अगुवाई की थी सीके नायुडू ने की थी और इंग्लैंड के कैप्टन थे बॉडीलाइन सीरिज़ के लिए मशहूर हुए डग्लस जार्डाइन.

संबंधित समाचार