द्रविड़ का पहला ट्वेन्टी-20

  • 31 अगस्त 2011
राहुल द्रविड़
Image caption राहुल द्रविड़ लंबे समय से वनडे टीम का भी हिस्सा नहीं रहे हैं

भारतीय क्रिकेट टीम के वरिष्ठ बल्लेबाज़ राहुल द्रविड़ पहला और आख़िरी ट्वेन्टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने इंग्लैंड के विरुद्ध मैनचेस्टर में उतर सकते हैं.

गौतम गंभीर को चोट लगी है और उनके टीम से बाहर होने की सूरत में द्रविड़ को टीम को सँभालना पड़ सकता है.

भारत के लिए इंग्लैंड का मौजूदा दौरा काफ़ी निराशाजनक रहा है और भारत का टेस्ट सिरीज़ में पूरी तरह सफ़ाया हो गया था.

भारत को चारों टेस्ट में बुरी तरह हार का सामना करना पड़ा था और उसी के बाद भारत को टेस्ट में नंबर एक की टीम की पदवी भी गँवानी पड़ी.

ऐसे में भारत की कोशिश सीमित ओवरों की शृंखला में अपनी इज़्ज़त बचाने की है. मगर भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का कहना है कि इस पूरी शृंखला को एक साथ देखना होगा और सिर्फ़ सीमित ओवरों की शृंखला को अलग से नहीं देखा जा सकता.

इंग्लैंड को उम्मीद

उन्होंने कहा, "मेरे ख़्याल से ये पूरी शृंखला ही ज़रूरी है, सिर्फ़ एक ट्वेन्टी-20 मैच या फिर कुछ वनडे मैचों को क्यों इतनी अहमियत दी जाए."

इस समय इंग्लैंड ट्वेन्टी-20 वर्ल्ड कप का चैंपियन है जबकि भारत ने अप्रैल में 50 ओवरों वाला विश्व कप जीता था.

राहुल द्रविड़ ट्वेन्टी-20 और 50 ओवरों वाले दोनों ही फ़ॉर्मेट में भारतीय टीम में शामिल नहीं थे और इस शृंखला के बाद वह सीमित ओवरों के क्रिकेट से संन्यास की घोषणा भी कर चुके हैं. इसलिए ये उनका पहला और आख़िरी ट्वेन्टी-20 मैच होगा.

धोनी ने भी माना कि इस मैच में द्रविड़ के खेलने की संभावना है.

स्टुअर्ट ब्रॉड की कप्तानी में टीम अच्छा प्रदर्शन करने की कोशिश करेगी हालाँकि जून में श्रीलंका के विरुद्ध हुए उस शृंखला के एक मात्र ट्वेन्टी-20 मैच में इंग्लैंड को नौ विकेट से हार मिली थी.

मगर ब्रॉड अब उससे ऊपर आने की बात कहते हैं, "निश्चित ही हमने उस समय बहुत अच्छा प्रदर्शन नहीं किया था मगर वो काफ़ी पहले था और शृंखला में सिर्फ़ एक मैच से ठीक फ़ॉर्म का पता भी नहीं चल पाता."

ब्रॉड ने केविन पीटरसन की फ़िटनेस पर आश्वस्त करते हुए कहा कि वह मैच के लिए उपलब्ध रहेंगे.

संबंधित समाचार