'पाकिस्तानी-ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों ने की फ़िक्सिंग'

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

लंदन में चल रही अदालती कार्रवाई के दौरान एक क्रिकेट एजेंट ने कहा है कि ऑस्ट्रेलियाई और पाकिस्तानी खिलाड़ियों ने कई मैचों में धाँधली की थी.

पाकिस्तानी खिलाड़ियों सलमान बट और मोहम्मद आसिफ़ के मुक़दमे के दौरान एजेंट मज़हर मजीद की कुछ गुप्त रिकॉर्डिंग सुनाई गईं जिसमें वो एक अंडरकवर पत्रकार से बात कर रहे हैं.

क्रिकेट एजेंट मज़हर मजीद ने कहा है कि मैच फ़िक्सिंग बरसों से हो रही है और उन्होंने खिलाड़ियों के नाम भी बताए.

उन्होंने आरोप लगाया कि ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ‘सबसे बड़े’ मैच फ़िक्सर हैं.

रिकॉर्डिंग में क्रिकेट एजेंट कह रहे हैं, “ये सदियों से हो रही है. वसीम, वक़ार, इयाज़ अहमद, मोइन खान.. सबने की है.”

फ़िक्सिंग के आरोप

मुकदमा पिछले हफ़्ते शुरु हुआ है. ऑडियो रिकॉर्डिंग में क्रिकेट एजेंट न्यूज़ ऑफ़ द वर्ल्ड के अंडरकवर पत्रकार महमूद को बता रहे हैं कि वे कुछ ब्रितानी और अमरीकी अभिनेताओं और खिलाड़ियों को जानते हैं जो आने वाली प्रतियोगिता में ग्लैमर का पुट डाल सकते हैं.

अंडरकवर पत्रकार महमूद ने क्रिकेट एजेंट को बताया था कि वे एक भारतीय व्यवसायी हैं जो एक प्रतियोगिता के लिए बड़े खिलाड़ियों की तलाश में हैं. सोमवार को महमूद कोर्ट में आए थे लेकिन वे एक स्क्रीन के पीछे ही रहे.

रिकॉर्डिंग में मज़हर मजीद ने कहा है, “मैच फ़िक्सिंग से काफ़ी पैसा बनता है लेकिन पाकिस्तानी क्रिकेट खिलाड़ियों को काफ़ी कम पैसा मिलता है. हम पाकिस्तानी टीम के साथ ढाई साल से ये कर रहा हूँ, हमने काफ़ी पैसा बनाया है.”

क्रिकेट एजेंट के मुताबिक ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी मैच के कुछ हिस्सों की फ़्किसिंग करते थे और हर मैच में ऐसे दस हिस्से या ब्रैकेट होते थे.

उन्होंने पत्रकार महमूद को बताया था कि ट्वेन्टी-20 मैच के नतीजे की फ़िक्सिंग के लिए चार लाख पाउंड लगेंगे और वनडे मैच की फ़िक्सिंग में चार लाख 50 हज़ार डॉलर.

क्रिकेट एजेंट के अनुसार, “पाकिस्तानी खिलाड़ी मेरे दोस्त थे और इन खिलाड़ियों ने ही मुझे बताया था कि फ़िक्सिंग होती है जिस पर मैने कहा था, सच में था? तब मैं अनजान था.”

पिछले साल 19 अगस्त को हुई बैठक में पत्रकार के साथ बैठक में तय हुआ था कि 20 हज़ार पाउंड के एवज़ में ओवल टेस्ट में क्रिकेट एजेंट पाकिस्तानी खिलाड़ियों की ओर से दो नो बोल सुनिश्चित करवाएँगे.

कोर्ट को बताया गया कि ओवल मैच में बाद में जानबूझकर नो बोल नहीं डाले गए थे.

बैठक में मजीद ने पत्रकार को बताया था कि कुछ पाकिस्तानी खिलाड़ी आने वाले एक मैच को जानबूझकर हारने पर राज़ी हो गए हैं.

सुनवाई मंगलवार तक टाल दी गई है.