नहीं चाहता कि विराट ऑलराउंडर बने :धोनी

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी नहीं चाहते कि युवा बल्लेबाज़ विराट कोहली ऑलराउंडर का विकल्प बनकर उभरें.

ग़ौरतलब है कि इंगलैड के खिलाफ़ चल रही श्रंखला के दूसरे मुक़ाबले में सोमवार को दिल्ली के फ़िरोज़शाह कोटला मैदान पर विराट कोहली ने सैकड़ा लगाने के पहले गेंदबाज़ी भी की थी.

विराट कोहली ने पाँच ओवर में बिना कोई विकेट लिए सिर्फ़ 18 रन खर्च किए थे.

मैच के बाद प्रेस वार्ता में धोनी से पूछा गया कि क्या विराट कोहली गेंदबाज़ी में उनके लिए एक नया विकल्प बनकर उभर रहे हैं.

इस सवाल के जवाब में धोनी ने कहा.“मैं नहीं चाहता कि विराट गेंदबाज़ी के विकल्प के तौर पर उभरे क्योंकि विराट का गेंदबाज़ी एक्शन जटिल है और मैं नहीं चाहता कि वो गेंदबाज़ी की वजह से लगी चोट के कारण आगे के मुक़ाबलों में ना खेल पाए.”

महेंद्र सिंह धोनी कहते है कि अगर उनके पास ब़ाकी गेंदबाज़ उपलब्ध हो तो वो नहीं चाहेंगे कि विराट गेंदबाज़ी करें.धोनी ये भी चाहते हैं कि विराट अपनी गेंदबाज़ी जारी रखें ताकि ज़रुरत पड़ने पर तीन से पाँच ओवर तक गेंदबाज़ी कर सके.

धोनी सोमवार के मुक़ाबले में भारतीय प्रदर्शन से संतुष्ट नज़र आए. उन्होने कहा “जीतना हमेंशा अच्छा होता है. और ये जीत खा़स इसलिए भी है कि इस मुक़ाबले में युवा खिलाड़ियों ने गेंदबाज़ी और बल्लेबाज़ी दोनों क्षेत्रों में अच्छा प्रदर्शन किया.”

जब धोनी से पूछा गया कि इंगलैंड की परिस्थितियों और भारत की परिस्थितियों के अलावा ऐसी कौन सी वजह है जो टीम वहाँ एक भी जीत हासिल नहीं कर पाई और अब भारत में लगातार दो जीत हासिल करने में क़ामयाब रही है.

इस सवाल के जवाब में धोनी कहते है, “कोई एक वजह बता पाना मुश्किल है. एक जो कारण में गिना सकता हूँ वो ये कि गीली गेंद ने इंगलैंड दौरे पर काफ़ी प्रभाव डाला. जब एक बार गेंद गीली हो जाती है तो स्पिन गेंजबाज़ों को मदद नहीं मिलती. बिना स्पिन गेंदबाज़ों के इंगलैंड में जीतना मुश्किल था और असल फ़र्क विकेट ने नहीं गिली गेंद ने डाला.”

पाँच एकदिवसीय मुक़ाबलों की श्रंखला में भारत फ़िलहाल 2-0 से बढ़त बनाए हुए है. तीसरा एकदिवसीय मुक़ाबला गुरूवार को मोहाली में होना है.

संबंधित समाचार