भारत पर चढ़ा ग्रां प्री का बुखार

  • 28 अक्तूबर 2011
फ़ार्मूला वन इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption हिस्सा लेने वाली 12 टीमों में भारत की फ़ोर्स वन भी शामिल रहेगी.

दिल्ली के पास स्थित ग्रेटर नोएडा के बुद्ध अंतरराष्ट्रीय सर्किट पर पहले भारतीय ग्राँ-प्री की शुरुआत हो गई है.

इस सीज़न में शुक्रवार और शनिवार को अभ्यास होगा जिसके बाद रविवार को फाइनल होगा.

एफ़वन की दुनिया के सबसे बड़े नाम – माइकल शूमाकर, लुई हैमिल्टन, सेबैस्टियन वेटेल और जेनसन बटन - इस तीन दिवसीय प्रतियोगिता में हिस्सा ले रहे हैं.

दुनिया की सबसे प्रमुख एफ़ वन टीमें – आरबीआर रेनो, मैक्लॉरेन-मर्सिडीज़, रेड बुल और फ़ेरारी – इन तीन दिनों में दिखेंगी. हिस्सा लेने वाली 12 टीमों में भारत की फ़ोर्स वन भी शामिल रहेगी.

शूमॉकर जिन्होंने फॉर्मूला वन रेस में आश्चर्यजनक वापसी की, उन्होंने वर्ष 2010 मर्सिडीज़ टीम के साथ तीन वर्ष का कांट्रैक्ट किया.

शूमॉकर कहते हैं कि उन्हें लगता है कि एफ़वन प्रतियोगिताएँ दुनिया भर में होनी चाहिए और भारत एक महत्वपूर्ण इज़ाफ़ा है.

43-वर्षीय शूमाकर दुनिया के सबसे सफ़ल प्रतियोगी माने जाते हैं, लेकिन वापसी के बाद वो पहले तीन स्थानों में जगह नहीं बना पाए हैं.

शूमाकर ने कहा, “ये हम सभी के लिए चुनौतीपूर्ण सप्ताहांत है क्योंकि ये बिल्कुल ही नया ट्रैक है. उम्मीद है कि इस खेल से भारतीय प्रशंसकों का भरपूर मनोरंजन होगा. मुझे पूरा विश्वास है कि भारत में हमारे अच्छे खासे अनुयायी हैं और हम नए ट्रैक पर मनोरंजन का इंतज़ार कर रहे हैं.”

सुरक्षा को लेकर चिंता

हाल ही में मलेशिया मोटरसाईकल ग्राँ-प्री में इटली के मार्को सिमनसेली की मौत के बाद सुरक्षा को लेकर उठी चिंताओं पर शूमाकर ने कहा कि हम ऐसी दुनिया में रहते हैं जहाँ कुछ भी सुरक्षित नहीं है और पूर्ण सुरक्षा संभव नहीं है.

“अगर आप देखें कि फ़ार्मूला बन में सुरक्षा कितनी बेहतर हुई है तो मेरे विचार से ये बहुत बड़ी सफ़लता है. जब हम अपनी गाड़ियाँ चलाते हैं तो हम खुद को पूरी तरह से सुरक्षित महसूस करते हैं. क्योंकि हम रफ़्तार की उस सीमा तक अपनी गाड़ियाँ ले जाते हैं जहाँ तक हम आश्वस्त हों. ताकि हमें पता चल सके कि हमारी गाड़ियाँ क्या कर रही हैं. सुरक्षा बढ़ाते रहना लगातार चलने वाली प्रक्रिया है. मोटरस्पोर्ट में खतरा शामिल रहता है.”

ये देखना होगा कि 5.14 किलोमीटर लंबे बुद्ध अंतरराष्ट्रीय सर्किट के अनजाने मोड़ और सड़कों से 12 टीमों के 24 ड्राइवर कैसे निपटते हैं.

लेकिन क्या फ़ार्मूला वन देश के लिए लंबे समय के लिए है?

शूमाकर ने कहा, “मैने जितना भारत देखा है और भारतीय फ़ार्मूला एफ़वन प्रशंसकों के बारे में सुना है, हम यहाँ लंबे समय के लिए आए हैं.”

जब शूमाकर से पूछा गया कि क्या वो भारत को साँपों और हाथियों के देश के तौर पर देखते हैं, तो वो हंसे और कहा, “मुझे जंगलीपना पसंद है. अगर जानवर हैं तो मैं उनके आसपास रहना पसंद रहूँगा. भारत उच्च तकनीक के सामान के लिए तेज़ी से बढ़ता बाज़ार है. भारत में असीम संभावनाएँ हैं.”

ये पूछे जाने पर क्या अपनी भारत यात्रा में वो सचिन तेंदुलकर से मिलेंगे, माइकल शूमाकर ने कहा, “मुझे याद नहीं है कि सचिन तेंदुलकर से पिछली बार कहाँ मुलाकात हुई. उनको लेकर मेरी बहुत अच्छी यादें हैं. मुझे उम्मीद है कि सप्ताहांत उनसे मुलाकात होगी. हालाँकि कार्यक्रम की सूची में वक्त की कमी है, लेकिन उनसे मुलकर मुझे बहुत खुशी होगी.”

लेकिन मस्ती का ये दौर सिर्फ़ एफ़-वन पर समाप्त नहीं हो जाता. अंतरराष्ट्रीय संगीत सितारे लेडी-गागा और रॉक ग्रुप मेटैलिका भी इस पूरे आयोजन का हिस्सा होंगे.

लेडी गागा

लेडी गागा रविवार को एक पंचसितारा होटल में मुख्य रेस के बाद लोगों का मनोरंजन करेंगी. ये उनका भारत में पहला आयोजन होगा. इससे पहले अभिनेत्री सिमी ग्रेवाल के एक शो में लेडी गागा ने कहा था कि भारतीय खाना सीखकर स्थानीय संस्कृति का आत्मसात् करना चाहती हैं.

लेडी गागा ने रविवार को अपने कार्यक्रम से पहले शुक्रवार को पत्रकारों से बातचीत की. उन्होंने अपने बालों को तिरंगे के रंगों में रंग रखा था.

इन कार्यक्रमों का भाग लेने के लिए हज़ारों का टिकट है. इन पार्टियों में शाहरुख खान और हृतिक रोशन के हिस्सा लेने की भी उम्मीद है. स्थानीय रिपोर्टों को मुताबिक टॉम क्रूज़ को भी निमंत्रण पत्र भेजा गया है.

आने वाले मेहमानों के लिए तरह तरह के खाने का इंतज़ाम किय़ा गया है. कुछ ड्राइवर ताज महल देखने भी गए औऱ इस दौरान भारतीय सड़कों और ट्रैफ़िक का नज़ारा भी देखा.

दो बार के विश्व चैंपियन सेबैस्टियन वेटेल भी आगरा जाने वाले लोगों में थे. उन्होंने रास्ते के ट्रैफ़िक को ‘सुनियोजित अव्यवस्था’ बताया.

उन्होंने कहा, “रास्ता बेहद लंबा था. लोग गलत तरफ़ गाड़ी चला रहे थे. मैने अपने ड्राइवर से पूछा कि भारत में लाइसेंस मिलना कितना आसान है, उसने कहा, पैसे दो और आपको लाइसेंस मिल जाएगा.”

वेटेल ने कहा कि इस यात्रा से उन्हें लोगों से समझने में मदद मिली औऱ ये भी देखने को मिला.

संबंधित समाचार