फ़ॉर्मूला वन की भारत में अच्छी शुरुआत

  • 30 अक्तूबर 2011
इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption रेस को देखने खेल जगत और सिनेमा के बड़े सितारे आए

फॉर्मूला वन का भारत आना किसी मेले से कम नहीं रहा. देश-विदेश के बड़े नाम, बॉलिवुड-हॉलिवुड की हस्तियां, खेल की दुनिया के सितारे और बड़े उद्योगपति ने इसमें शिरकत की. रविवार की शाम फॉर्मूला वन के नाम ही रही.

रेस की शुरुआत सचिन तेंदुलकर ने झंडी दिखा कर की, तो पुरुस्कार वितरण उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती ने किया.

रेस को देखने और बाद में होने वाली पार्टी के लिए तेंदुलकर, शाहरुख़ और लेडी गागा समेत कई बड़ी हस्तियाँ आईं..

क्रिकेट में कई तूफ़ानी पारियां खेलने वाले सचिन तेंदुलकर रफ्तार की इस धार के बारे में कहा कि इन गाड़ियों की इंजन की आवाज़ उनके कानों में संगीत की तरह बजता है.

सचिन तेंदुलकर का फॉर्मूला वन का शौक पुराना है और जगजाहिर भी. लेकिन क्या फॉर्मूला वन देश में क्रिकेट जैसे लोकप्रिय खेल की जगह ले सकता है...

कई खेल विशेषज्ञ मानते हैं कि जहां क्रिकेट करोड़ों भारतीयों की पसंद है जो न सिर्फ़ इसे देखते हैं बल्कि खेलते भी हैं, वहीं फ़ॉर्मूला वन एक जीवनशैली से जुड़ा खेल है.

पैसों का खेल

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption सचिन तेंदुलकर को रेस की गाडियों की आवाज़ में संगीत सनाई देता है

लोकप्रियता के बारे में भले ही फॉर्मूला वन क्रिकेट का मुकाबला न करे लेकिन खेल के अर्थशास्त्र के मामले में मोटर स्पोर्ट्स का ये जश्न क्रिकेट से कम नहीं है.

अगर खिलाड़िय़ों की कमाई की बात करें तो इसमें भी फॉर्मूला वन बाज़ी मार जाता है.

माना जाता है कि क्रिकेट में सबसे ज़्यादा पैसा इंडियन प्रीमियर लीग में मिलता है. आईपीएल में सबसे ज़्यादा पैसा गौतम गंभीर कमाते हैं जो सालाना साढ़े पांच करोड़ रूपये है. वहीं फॉर्मूला वन के बड़े सितारे फर्नांन्डो अलोंज़ों सालाना कम से कम 204 करोड़ रूपये कमाते हैं.

इन आंकड़ों में दोनों ही खिलाड़ियों को विज्ञापन से मिलने वाला पैसा शामिल नहीं है.

वहीं टेलीविज़न पर दर्शकों की तुलना करे तो क्रिकेट विश्व कप क्रिकेट के फ़ाइनल में को भारत में 6 करोड़ से ज्यादा लोगों ने देखा. जबकि फ़ॉर्मूला वन को पूरे सीज़न में 52 करोड़ लोग टीवी पर देखते हैं.

एक अंदाज़े के मुताबिक जेपी ग्रुप ने रेस ट्रैक को बनाने में 40 करोड़ डॉलर खर्च किया है. यह रेस 5 साल तक भारत में होगी. इस खेल की लोकप्रियता का अंदाज़ा अगले 5 साल में इसकी प्रदर्शन से ही लगाया जा सकेगा.

संबंधित समाचार