स्पॉट फ़िक्सिंग का दोषी पूर्व काउंटी क्रिकेटर

  • 13 जनवरी 2012
मर्विन वेस्टफ़ील्ड इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption मर्विन वेस्टफ़ील्ड एसेक्स काउंटी से खेलते थे

क्रिकेट में स्पॉट फ़िक्सिंग का नया मामला सामने आया है और इस बार इंग्लैंड में एक पूर्व काउंटी क्रिकेटर ने स्पॉट फ़िक्सिंग में शामिल होने की बात स्वीकार की है.

मर्विन वेस्टफ़ील्ड ने एक ब्रितानी कोर्ट में यह स्वीकार किया है कि उन्होंने वर्ष 2009 में ख़राब गेंदबाज़ी के लिए पैसे लिए थे.

पिछले साल नवंबर में पाकिस्तान के तीन क्रिकेटरों को स्पॉट फ़िक्सिंग का दोषी पाया गया था और इस समय तीनों खिलाड़ी मोहम्मद आसिफ़, सलमान बट और मोहम्मद आमिर जेल में हैं.

मर्विन वेस्टफ़ील्ड एसेक्स की ओर से खेलते थे. वर्ष 2009 के सितंबर में डरहम के ख़िलाफ़ 40 ओवरों के एक मैच में वेस्टफ़ील्ड ने मैच के पहले ओवर में 12 रन देने के लिए पैसे लिए थे.

क्षमादान

उन्हें इसके लिए छह हज़ार पाउंड मिले थे. लेकिन उस ओवर में सिर्फ़ 10 रन ही बन पाए.

जज एंथली मॉरिस ने कहा है कि इस मामले में शामिल दूसरे व्यक्ति का नाम सामने आ जाएगा, लेकिन अदालत में इस व्यक्ति का नाम नहीं बताया गया है.

अब वेस्टफ़ील्ड को 10 फरवरी को सज़ा सुनाई जाएगी और जज ने चेतावनी दी है कि उन्हें जेल भी भेजा जा सकता है.

इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड ने कहा है कि इस मामले ने खिलाड़ियों और अधिकारियों को स्पष्ट संदेश दिया है कि स्पॉट फ़िक्सिंग आपराधिक कृत्य है और क़ानून में इसके लिए सज़ा का प्रावधान है.

बोर्ड ने उन खिलाड़ियों को क्षमादान देने की पेशकश की है, जो इस तरह के मामलों की जानकारी देना चाहते हैं.

इस तरह के मामलों के बारे में न बताना अपराध है, लेकिन बोर्ड ने ऐसे किसी भी व्यक्ति को 30 अप्रैल तक ऐसी घटनाओं के बारे में जानकारी देने का समय दिया है.

संबंधित समाचार