पर्थ का बीयर कांड

पोलियो इमेज कॉपीरइट AP
Image caption पिछले साल 13 जनवरी के बाद भारत में पोलियो का कोई भी केस दर्ज नहीं हुआ है

पूर्व भारतीय लेग स्पिनर भागवत चंद्रशेखर इन दिनों ऑस्ट्रेलिया में हैं. चंद्रशेखर यूनिसेफ़ और 'ग्लोबल पॉवर्टी प्रोजेक्ट' के पोलियो मुक्ति अभियान के तहत ऑस्ट्रेलिया में हैं.

पिछले साल 13 जनवरी के बाद भारत में पोलियो का कोई भी केस दर्ज नहीं हुआ है. इस उपलब्धि को दर्ज करते हुए पर्थ टेस्ट मैच से पहले दिन दोनों ही टीमों के खिलाड़ियों ने इस अभियान को सम्मान दिया और ‘एंड पोलियो नाओ' लिखे रिबन पहने.

चंद्रशेखर खुद पोलियो से प्रभावित थे इसके बावजूद उन्होंने सफ़लता के साथ टेस्ट क्रिकेट खेला था और बेदी, प्रसन्ना और वेंकटराघवन के साथ मिलकर भारत की विख्यात स्पिन चौकड़ी का हिस्सा बने थे.

चंद्रा ने बीबीसी से बातचीत में कहा, “मै जब छह साल का था मेरा दांया हाथ कमज़ोर हो चला था. पोलियो का अंत होना चाहिए और मुझे बहुत खुशी है कि एक साल से भारत में किसी को पोलियो नहीं हुआ है.”

बीयर कांड

पर्थ टेस्ट मैच से एक दिन पहले यहां के ग्राउंड स्टाफ़ के कुछ सदस्यों द्वारा पिच पर चहलक़दमी और बीयर पीने की घटना को ऑस्ट्रेलियाई और भारतीय मीडिया में अलग-अलग रंग में पेश किया गया है.

जहां भारत के कुछ अख़बार और मीडिया चैनलों ने इसे काफ़ी तूल दिया है वहीं ऑस्ट्रेलिया के कुछ घरेलू मीडिया ने इसे यहां का रिवाज़ बताया.

पिच के क्यूरेटर कैमरन सदरलैंड ने चैनल नाइन को बताया कि ग्राउंड स्टाफ़ ने पिच को कोई नुकसान नहीं पंहुचाया है और इस बात को ज़्यादा नहीं बढ़ाना चाहिए.

विवरणों के अनुसार युवाओं का एक दल पिच पर बीयर की बोतलें रखकर फ़ोटो ख़िचवा रहा था.

हालांकि ये ख़बरें नहीं हैं कि इससे पिच को कोई नुक़सान पहुँचा है.

झड़पों के लिए प्रसिद्ध पर्थ

पर्थ की पिच पर सिर्फ़ तेज़ गेंदबाज़ों को ही मदद नहीं मिलती, यहां क्रिकेट की कुछ तीख़ी झड़पें भी हुई हैं.

1981 में यहां पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया के मैच के दौरान तेज़ गेंदबाज़ डेनिस लिली औऱ जावेद मियांदाद में खासी बहस हो गई थी.

दोनों की बात इतनी बढ़ गई थी कि लिली मिंयादाद को मुक्के से मारने दौड़े थे. मियांदाद कहां पीछे रहने वाले थे, उन्होंने बल्ले से ही लिली को मारने की मुद्रा बना ली थी. बाद में साथी खिलाड़ियों और अंपायर ने बहुत मुश्किल से दोनों को अलग किया.

इसी मैदान पर ऑस्ट्रेलिया के टेरी ऐलडरमैन ने एक दर्शक को टक्कर मारी थी जिससे उस दर्शक का कंधा ही टूट गया था.

संबंधित समाचार