विवाद और ओलंपिक, चोली-दामन का साथ

Image caption आधुनिक ओलंपिक खेलों का हर आयोजन किसी न किसी वजह से विवादों के घेरे में रहा

ओलंपिक खेलों का इतिहास न केवल दुनिया के बेहतरीन खिलाड़यों से रूबरू कराता है, बल्कि राजनीतिक संघर्षों और निजी तक़रारों की कहानियां भी बयां करता है. आधुनिक ओलंपिक खेलों के आग़ाज़ के साथ ही विवाद भी शुरू हो जाते हैं.

वर्ष 1896

इस वर्ष ग्रीस बड़ी मुश्किल से ओलंपिक खेलों की मेज़बानी कर पाया क्योंकि देश उस समय लगभग दिवालिया हो गया था.

एथेंस में हुए पहले आधुनिक ओलंपिक खेलों में किसी भी काले खिलाड़ी ने भाग नहीं लिया था.

वर्ष 1908

इटली में वर्ष 1906 में माउंट विसुवियस ज्वालामुखी फटने की वजह से ओलंपिक खेलों की मेज़बानी लंदन को मिली.

ज्वालामुखी फटने की वजह से इटली में अफ़रा-तफ़रा का माहौल था और इससे वहां काफी नुक़सान भी हुआ.

वर्ष 1936

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption कनाडा के धावक बेन जानसन को ड्रग टेस्ट में पॉज़ीटिव पाया गया

हिंसा और विवादों के बाद नाज़ियों के हाथ में जर्मनी की सत्ता आई. इसके बावज़ूद ओलंपिक खेलों का आयोजन योजनाबद्ध तरीके से हुआ.

लेकिन बर्लिन की मेज़बानी पर कई सवाल उठे. अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक संघ पर नस्लवाद के आरोप लगे और कई देशों ने उदघाटन समारोह में नाज़ी अंदाज़ में सलामी दी.

वर्ष 1956

मेलबर्न ओलंपिक में हंगरी और सोवियत यूनियन के बीच वॉटर पोलो मैच ऐसे समय हुआ जब सोवियत टैंकों की हंगरी पर चढ़ाई का मुद्दा गर्म था.

खेलों को रद्द करने के आह्वान के बावज़ूद दोनों देशों के बीच मैच हुआ.

वर्ष 1968

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption अफ़ग़ानिस्तान पर सोवियत यूनियन का आक्रमण मॉस्को ओलंपिक के बहिष्कार की वज़ह बनी

मैक्सिको में आयोजित ओलंपिक खेलों के दौरान टॉमी स्मिथ और जॉन कार्लोस ने पुरूषों की 200 मीटर दौड़ में स्वर्ण और कांस्य पदक जीते.

पदक प्रदान करने के लिए जब इन धावकों को मंच पर बुलाया गया तो उन्होंने आपत्तिजनक जिस तरीक़े से अभिवादन किया, उस पर अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक संघ ने कड़ी आपत्ति जताई.

दोनों खिलाड़ियों को अमरीका ने फ़ौरन निलंबित कर दिया और उन्हें ओलंपिक विलेज़ से बाहर निकाल दिया गया.

वर्ष 1971

ओलंपिक खेलों के दौरान फ़लस्तीनी चरमपंथी गुट 'ब्लैक सेप्टेम्बर' ने इसराइली टीम पर धावा बोलकर दो खिलाड़ियों की हत्या कर दी और नौ अन्य को बंधक बना लिया.

इसके बाद अगले 24 घंटों में बंदूकधारियों के साथ तीन हेलिकॉप्टर इसराइली खिलाड़ियों को लेकर एक सैन्य ठिकाने के लिए उड़े. पुलिस ने बंधक बनाए खिलाड़ियों को छुड़ाने की कोशिश की जिसमें एक पुलिसकर्मी, पांच बंदूकधारी और सभी बंधक मारे गए.

वर्ष 1980

इमेज कॉपीरइट IOC
Image caption वर्ष 1980 में आयोजित मॉस्को ओलंपिक आख़िरी ओलंपिक था जिसमें भारतीय हॉकी टीम ने स्वर्ण पदक जीता था

इस वर्ष आयोजित ओलंपिक खेलों में पूरब और पश्चिम के मेल का वादा किया गया था लेकिन ओलंपिक में हिस्सा लेने वाले देशों ने मॉस्को ओलंपिक का बहिष्कार कर दिया.

बहिष्कार करने वाले देशों में अमरीका, पश्चिमी जर्मनी और जापान भी शामिल थे.

ये बहिष्कार दरअसल अफ़ग़ानिस्तान में सोवियत संघ के आक्रमण पर विश्वव्यापी प्रतिक्रिया को दर्शा रहा था.

वर्ष 1988

कनाडा के धावक बेन जानसन ने सौ मीटर फ़र्राटा दौड़ रिकॉर्ड 9.79 सेंकड में पूरी करके खेल जगत में हलचल मचा दी.

लेकिन बाद में ड्रग टेस्ट में उन्हें पॉज़िटिव पाया गया और उनसे फ़ौरन स्वर्ण पदक वापस ले लिया गया.

दूसरे स्थान पर रहे कार्ल लुईस को ये स्वर्ण पदक प्रदान किया गया.

वर्ष 1992

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption ओलंपिक मैच के दौरान ऑस्ट्रेलिया की बॉस्केटबॉल टीम ने अमरीका के ख़िलाफ़ खेलने से इनक़ार कर दिया था

ऑस्ट्रेलिया की बॉस्केटबॉल टीम ने अमरीका के ख़िलाफ़ खेलने से इनक़ार कर दिया क्योंकि मशहूर खिलाड़ी इर्विन 'मैजिक' जॉनसन ने ये घोषणा की थी कि वे एचआईवी पॉज़िटिव हैं.

ज़ुबानी जंग तेज़ हो ही रही थी कि ऑस्ट्रेलिया की सरकार ने दख़ल दिया और तब बहिष्कार के लिए उठ रहे शुरुआती स्वर ख़ामोश हुए.

वर्ष 1996

अटलांटा में सुबह-सुबह एक बम धमाका हुआ जिसमें एक खिलाड़ी मारा गया और 111 अन्य लोग घायल हो गए.

घटनास्थल से भाग रहे तुर्की के एक कैमरामैन की दिल का दौड़ा पड़ने से मौत हो गई.

ये घटना ज़्यादा ब़डी हो सकती थी लेकिन एक सुरक्षाकर्मी की सजगता से और बमों को फटने से पहले बरामद कर लिया गया.

वर्ष 2000

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption ओलंपिक के टिकट भी विवाद की वज़ह बने

कॉर्पोरेट पैकेज़ के तहत 84,000 टिकटें मुहैया कराने के मुद्दे पर आयोजकों को कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ा.

बीच वॉलीबॉल के लिए बोंडी तट को तैयार करने के मुद्दे पर भी आयोजकों को आड़े हाथों लिया गया.

बुल्गारिया की वेट-लिफ़्टिंग टीम को ड्रग टेस्ट में पॉज़िटिव पाए जाने की वजह से ओलंपिक से बाहर का रास्ता दिखाया गया.

वहीं अमरीका के अधिकारियों पर इन खिलाड़ियों के नाम सार्वजनिक नहीं करने का आरोप लगा.

वर्ष 2004

इस वर्ष एथेंस ओलंपिक खेलों के आयोजन से पहले ही विवाद शुरू हो गया जहां तय समयसीमा में ओलंपिक आयोजन स्थल बनकर तैयार नहीं हो सके.

इस पर अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक संघ के अधिकारियों ने ओलंपिक खेल आयोजित कराने की ग्रीस की क्षमता पर ही सवाल खड़े कर दिए.

इस दौरान अमरीकी टीम पर ड्रग्स लेने के मामले से पैदा हुआ विवाद भी गहराता रहा.

वर्ष 2008

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption बीजिंग ओलंपिक सफल आयोजन के बावज़ूद विवादों से नहीं बच सका

बीजिंग ओलंपिक की मशाल यात्रा के दौरान कई देशों में बाधा डालने की कोशिश की गई थी.

प्रख़्यात फ़िल्मकार स्टीवन स्पीलबर्ग ने बीजिंग ओलंपिक के कलात्मक सलाहकार के पद से हटने की घोषणा की.

स्पीलबर्ग चाहते थे कि चीन के राष्ट्रपति हू जिंताओ दारफ़ूर क्षेत्र पर सूडान के हमले को रोकने के लिए दबाव बनाएं, लेकिन ऐसा नहीं हुआ जिसके विरोध में स्पीलबर्ग बीजिंग ओलंपिक से अलग हो गए.

बींजिंग ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले कीनियाई धावक ओलंपिक मैराथन विजेता कीनियाई सैमुअल वांजिरु की अपने घर की बालकनी से गिरने के बाद मौत की ख़बर भी सुर्ख़ियों में रही.

वर्ष 2012

Image caption भोपाल गैस पीड़ितों के विरोध को काफी समर्थन भी मिला.

लंदन ओलंपिक खेलों के शुरू होने से पहले ही इसके प्रोयायकों में डाओ केमिकल्स का नाम आने से विवाद पैदा हो गया.

डाओ केमिकल्स ने यूनियन कार्बाइड कंपनी को ख़रीदा था जो भारत के मध्यप्रदेश राज्य की राजधानी भोपाल में वर्ष 1984 में हुई गैस त्रासदी के लिए ज़िम्मेदार थी.

भारत और अन्य देशों में भी बढ़ते विरोध के बीच ख़बर आई कि डाओ केमिकल्स लंदन ओलंपिक में स्टेडियमों से अपने विज्ञापन हटाने के लिए तैयार हो गया है.

लेकिन डाओ केमिकल्स ने उन खबरों का खंडन किया.

संबंधित समाचार