अफ़ग़ानिस्तान क्रिकेट में है दम

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption आईसीसी की किसी भी टीम के साथ अफ़गानिस्तान का यह पहला मैच था.

अफ़ग़ानिस्तान के लिए दस फ़रवरी का दिन एक ऐतिहासिक दिन था जब उसने पहली बार किसी अंतरराष्ट्रीय टीम के ख़िलाफ़ खेला.

अफ़ग़ानिस्तान की क्रिकेट टीम पाकिस्तान के ख़िलाफ़ अपने पहले मैच में भले ही हार गई हो लेकिन टीम ने हारने से पहले ये ज़रुर साबित कर दिया कि टीम में दम है.

हालांकि स्कोरकार्ड से ऐसा पता नहीं चलता कि अफ़ग़ानिस्तान की टीम ने कोई कड़ा मुकाबला किया हो लेकिन ये तय रहा कि अफ़ग़ानिस्तान ने मैच के एक लंबे समय तक पाकिस्तान को टक्कर दी.

पाकिस्तान ने 77 गेंद रहते मैच जीत लिया लेकिन इसके साथ ही अफ़ग़ानिस्तान भी इतिहास के पन्नों में आ गया क्योंकि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के सदस्य देशों के साथ अफ़ग़ानिस्तान की क्रिकेट टीम का यह पहला मैच था.

मैदान के हर कोने में सिर्फ अफ़ग़ानिस्तान के झंडे ही नज़र आ रहे थे. माहौल ऐसा था जैसे भारत और पाकिस्तान के बीच मैच हो रहा हो.

मैच से पहले यह कहा जा रहा था कि पाकिस्तान की टीम से अफ़ग़ानिस्तान की टीम को बहुत कुछ सीखने को मिलेगा. ऐसा हुआ भी लेकिन अफ़ग़ानिस्तान के इतने बढ़िया प्रदर्शन से पाकिस्तान हैरान भी हुआ.

पाकिस्तान के कप्तान मिस्बाह-उल हक़ ने तो यहां तक कहा कि अफ़ग़ानिस्तान की टीम से उन्हें इतने अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद नहीं थी.

अफ़ग़ानिस्तान की पारी

अफ़ग़ानिस्तान ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी करने का फ़ैसला किया. दोनों प्रारंभिक बल्लेबाज़ो ने विश्वास के साथ खेलना शुरु किया हालांकि नूर अली के रूप में पहला विकेट जल्दी ही गिर गया.

अफ़ग़ानिस्तान की टक्कर का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि पाकिस्तान को अपने स्टार गेंदबाज़ सईद अज़मल को वक्त से पहले गेंदबाज़ी के लिए बुलाना पडा क्योंकि उसके तेज़ गेंदबाज़ों की ज़बर्दस्त धुनाई हुई.

काबुल के सहवाग के नाम से विख्यात करीम सादिक़ ने ताबड़तोड़ बल्लेबाज़ी की और अज़मल की पहली गेंद पर ही छक्का लगा दिया.

करीम ने मात्र 47 गेंदों में 40 रन बनाए जिसमें दो छक्के भी शामिल थे. जहाँ एक ओर करीम पारी संभालने का प्रयास कर रहे थे वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान के शाहिद आफरीदी लगातार विकेट चटका रहे थे.

मोहम्मद शहज़ाद ने 20 रन और मोहम्मद नबी ने 37 रनों का महत्वपूर्ण योगदान दिया.

निचले क्रम में बल्लेबाज़ी करने आए समीउल्लाह शेनवाड़ी ने उमर गुल के हाथों एलबीडबल्यू होने से पहले 32 रन बनाए.

कुछेक बल्लेबाज़ों के अलावा बाकी कोई और बल्लेबाज़ अधिक रन नहीं बना पाया और पूरी टीम 48.3 ओवरों में 195 रन बनाकर आउट हो गई. शाहिद अफ़रीदी ने 36 रन देकर पाँच विकेट लिए.

पाकिस्तान का जवाब

भले ही पाकिस्तान की शुरुआत ख़राब रही लेकिन फिर भी पाकिस्तान ने मात्र 37.1 ओवर में ही लक्ष्य पूरा कर लिया.

पाकिस्तान की तरफ से इमरान फरहत ने 52 रन बनाए जबकि युनूस खान ने 65 गेंदों पर 70 रनों की बेहतरीन पारी खेली.

मिस्बाह उल हक 40 रन बनाकर नाबाद रहे और 77 गेंद रहते ही मैच खत्म हो गया.

खास बात यह रही कि अफ़ग़ानिस्तान की टीम पाकिस्तान के सात विकेट गिराने में कामयाब ज़रुर रही.

अपने शानदार गेंदबाज़ी के लिए आफरीदी को मैन ऑफ द मैच चुना गया.

संबंधित समाचार