भारतीय टीम की मजबूत 'दीवार'

राहुल द्रविड़ इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption राहुल द्रविड़ ने टेस्ट मैचों में अब तक 13,288 रन बनाए है

भारतीय टीम के स्टार बल्लेबाज राहुल द्रविड़ क्रिकेट की दुनिया में जितना अपने असली नाम से प्रसिद्ध है उतने ही 'द वॉल' यानी कि 'दीवार' के नाम से मश्हूर हैं.

करियर के अलग-अलग पड़ाव पर उनके और भी कई नाम पड़े जैसे की ‘जैमी’ या फिर ‘मिस्टर भरोसेमंद’.

राहुल द्रविड़ एकदिवसीय, टेस्ट और ट्वेंटी-20 के सैकड़ों मैचों में भारत की जीत के सूत्रधार रहें हैं.

दाएं हाथ के 39 वर्षीय इस बल्लेबाज के आगे दुनिया के बड़े से बड़े गेंदबाज हार मान ले लेते थे. कहा जाता है कि द्रविड़ विकेट पर एक दिवार के समान खड़े हो जाते है, जिसे भेद पाना इतना आसान नहीं है.

अनिल कुंबले, जवागल श्रीनाथ के बाद कर्नाटक के तीसरे सबसे बड़े खिलाड़ी बनकर उभरे राहुल द्रविड़ ने पहला टेस्ट मैच साल 1996 में इंग्लैंड के खिलाफ खेला था.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption वनडे मैचों में राहुल द्रविड़ 12 शतक लगा चुके हैं.

शुरूआत

वनडे मैचों की बात करे तो द्रविड़ ने शुरूआत 1996 में श्रीलंका के विरूद्ध की और सन्यास लेने से पहले आखिरी मैच सितंबर 2011 में इंग्लैड के खिलाफ खेला.

राहुल द्रविड़ ने टेस्ट मैचों में अब तक 13,288 रन बनाए है, जबकि एकदिवसीय मैचों में 10,889 रन उनके नाम दर्ज है.

औसत की बात करे तो राहुल यहां भी औसत से मीलों आगे है, वनडे में उनका औसत 39.16 तो टेस्ट में 52.31 है.

फुल टाइम विकेटकीपर बल्लेबाज के अभाव में भारतीय टीम के लिए विकेटकीपिंग कर चुके राहुल द्रविड़ ने टेस्ट मैचों में 210 कैच लपके है. सबसे ज्यादा कैच पकड़ने का रिकार्ड भी उन्ही के नाम दर्ज है. वनडे में ये आंकड़ा 196 पर रहा.

टॉप स्कोर

राहुल टेस्ट मैचों में 36 शतक लगा चुके है, खेल के इस संस्करण में उनका टॉप स्कोर 270 रन है.

वहीं वनडे में 12 शतक और 83 अर्धशतक राहुल द्रविड़ के नाम है, उनके 153 रनों की एकदिवसीय पारी उनका वनडे में टॉप स्कोर है.

द्रविड़ के नाम एक अनचाहा रिकार्ड भी दर्ज है और वो है टेस्ट मैचों में सबसे ज्यादा बार बोल्ड आउट होने का. टेस्ट क्रिकेट में द्रविड़ 55 बार बोल्ड हुए है, जो एलन बॉर्डर के 53 बार के रिकार्ड से भी ज्यादा है.

द्रविड़ इकलौते ऐसे बल्लेबाज है जिन्होंने सभी दस टेस्ट खेलने वाले देशों के खिलाफ शतक लगाए है.