पैरालिंपिक को ओलंपिक के साथ जोड़ने पर सर्वे

लंदन ओलंपिक खेलगांव इमेज कॉपीरइट Locog
Image caption लंदन ओलंपिक खेलगांव

बीबीसी के एक सर्वे में पता चला है कि पैरालिंपिक को ओलंपिक खेलों के साथ जोड़ने के मामले में दुनिया भर के लोगों की राय बटी हुई है.

बीबीसी वर्ल्ड सर्विस ने ग्लोबस्कैन नाम की एक कंपनी के ज़रिए दुनिया भर में लोगों की राय जानने की कोशिश की क्या पैरालंपिक खेलों को ओलंपिक खेलों के साथ जोड़ देना चाहिए.

पैरालंपिक यानी ऐसा खेल आयोजन जिसमें केवल विकलांग खिलाड़ी हिस्सा लेते हैं. पैरालंपिक खेल, ओलंपिक गेम्स के ठीक बाद होता है और इसके लिए उन्हीं स्टेडियमों और दूसरी सुविधाओं का इस्तेमाल किया जाता है.

सर्वे के मुताबिक 47 प्रतिशत लोग चाहते हैं कि पैरालंपिक खेलों को मुख्य ओलंपिक खेलों के साथ जोड़ देना चाहिए लेकिन 43 प्रतिशत लोग ऐसा नहीं चाहते.

भारत

भारत में 26 प्रतिशत लोग चाहते हैं कि इसे अलग-अलग रखा जाए लेकिन 47 प्रतिशत चाहते हैं कि दोनों खेलों को एक साथ जोड़ दिया जाए.

भारत में चार जनवरी से 12 जनवरी 2012 के बीच कुल 604 लोगों से बात की गई थी. सर्वे में शामिल सभी लोगों की उम्र 18 वर्ष से ज्यादा थी.

इस सर्वे के लिए 19 देशों में 10 हजार 294 लोगों से सीधे या फिर टेलिफोन के ज़रिए छह दिसंबर 2011 से लेकर 17 फरवरी 2012 के बीच बात की गई थी.

उन 19 देशों में से आठ चाहते हैं कि दोनों खेलों को जोड़ दिया जाए, छह देश चाहते हैं कि दोनों को अलग रखा जाए जबकि पांच देशों में लोगों की राय बटी हुई है.

इस सर्वे की खास बात ये है कि ओलंपिक में बेहतर प्रदर्शन करने वाले ज्यादातर देश चाहतें हैं कि दोनों खेलों को अलग रखा जाए.

उदाहरण के तौर पर चीन में 67 प्रतिशत लोग इसे अलग रखने का समर्थन करते हैं जबकि 27 प्रतिशत लोग चाहते हैं कि दोनों को एक साथ जोड़ दिया जाए.

उसी तरह अमरीका में 64 प्रतिशत लोग इसे अलग रखना चाहते हैं जबकि 29 प्रतिशत लोग इसे एक साथ करने के पक्षधर हैं.

ऑस्ट्रेलिया में 54 प्रतिशत लोग दोनों को अलग रखने के पक्ष में हैं तो 42 प्रतिशत लोग इसे अलग-अलग रखना चाहते हैं.

Image caption पैरालंपिक तैराक डेविड रॉबर्ट्स

हालाकि ओलंपिक में बेहतर प्रदर्शन करने वाले रूस में लोगों की राय इस धारण से उतनी मेल नहीं खाती. रूस में 46 फीसदी लोग दोनों खेलों को जोड़ने का विरोध करते हैं लेकिन 39 प्रतिशत लोग चाहते है कि दोनों खेलों को एक साथ कराया जाए.

इसके ठीक विपरीत सर्वे में पाया गया है कि जिन देशों का प्रदर्शन ओलंपिक खेलों में ज्यादा अच्छा नहीं होता है वहां लोग चाहते है कि दोनों को एक साथ जोड़ दिया जाए

मिसाल के तौर पर भारत में 26 प्रतिशत लोग चाहते हैं कि दोनों को अलग-अलग रखा जाए जबकि 47 प्रतिशत लोग चाहते हैं कि दोनों खेलों को एक साथ आयोजित किया जाए.

फ्रांस में 70 प्रतिशत लोग दोनों को एक साथ कराने के पक्षधर हैं जबकि केवल 26 प्रतिशत लोग इसे अलग-अलग रखना चाहते हैं.

चिली में 75 प्रतिशत लोग इसे एक साथ जोड़ना चाहते हैं जबकि केवल 19 प्रतिशत लोग इसे अलग-अलग रखना चाहते हैं.

ब्रिटेन में जिसके शहर लंदन में इस साल ओलंपिक खेलों का आयोजन हो रहा है, वहां लोगों की राय लगभग आधी-आधी बटी हुई है.

ब्रिटेन में 50 प्रतिशत लोग इसे अलग-अलग रखना चाहते हैं जबकि 46 फीसदी लोग चाहते हैं कि ओलंपिक और पैरालंपिक खेलों को एक साथ कराया जाना चाहिए.

इस सर्वे पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए ग्लोबस्कैन के चेयरमैन डग मिलर का कहना था, ''सर्वे के नतीजे बताते है कि ओलंपिक और पैरालिंपिक खेलों को जोड़ने का फैसला विवादास्पद होगा क्योंकि जिन देशों ने ओलंपिक खेलों में ज्यादा पदक जीतें हैं वे इसका विरोध करेंगें.''

संबंधित समाचार