'भारत-पाक सेमी फाइनल फिक्स नहीं था'

भारतीय टीम इमेज कॉपीरइट AP

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने ब्रतानी अखबार द संडे टाइम्स के उस दावे का खंडन किया है कि पिछले साल विश्व कप के दौरान भारत और पाकिस्तान के बीच मैच फिक्स था.

आईसीसी ने उस दावे को भी ठुकरा दिया है कि वो विश्व कप 2011 के सेमी फाइनल की जाँच कर रहा है. एक बयान में आईसीसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हारून लॉरगेट ने कहा है कि संडे टाइम्स में छपी खबर आधारहीन और भ्रामक है.

बयान में लॉरगेट ने कहा है, "ये दावा करना कि आईसीसी पिछले साल विश्व कप के सेमी फ़ाइनल की जाँच कर रहा है, आधारहीन है. आईसीसी के पास कोई वजह नहीं है कि वो इस मैच की जाँच करे."

लॉरगेट ने दावे को दुखद बताते हुए कहा है कि ये अब तक के सबसे सफल विश्व कप के सेमी फाइनल मैच पर संदेह खडा करने की मकसद से किया जा रहा है.

इनकार

इससे पहले भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने भी मैच फिक्सिंग के बारे में एक ब्रितानी अखबार की रिपोर्ट पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है.

ब्रितानी अखबार संडे टाइम्स ने एक सट्टेबाज के दावे पर ये रिपोर्ट छापी थी कि पिछले साल विश्व कप के दौरान भारत और पाकिस्तान के बीच हुआ सेमी फाइनल मैच फिक्स था.

बीसीसीआई के उपाध्यक्ष और आईपीएल के चेयरमैन राजीव शुक्ला ने कहा कि जब तक उन्हें आईसीसी या किसी अन्य एजेंसी से कुछ ठोस नहीं मिलता, वे इस मुद्दे पर टिप्पणी नहीं करेंगे. उन्होंने कहा कि अखबार कुछ भी छाप सकते हैं.

ब्रितानी अखबार संडे टाइम्स के रिपोर्टर मजहर महमूद ने कथित रूप से भारतीय सट्टेबाजों पर स्टिंग ऑपरेशन किया था. इस स्टिंग ऑपरेशन में सट्टेबाज दावा कर रहे थे कि भारत-पाकिस्तान के बीच पिछले साल हुआ सेमी फाइनल मैच फिक्स था और फिक्सिंग में बॉलीवुड अभिनेत्रियों का भी इस्तेमाल होता है.

स्टिंग ऑपरेशन में सट्टेबाज ये भी दावा कर रहे थे कि काउंटी क्रिकेट में भी फिक्सिंग होती है, क्योंकि किसी की नजर इन मैचों पर नहीं होती.

दूसरी ओर मुंबई में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके अभिनेत्री नूपुर मेहता ने संडे टाइम्स पर मुकदमा करने की धमकी दी है. नूपुर का कहना है कि वे मैच फिक्सिंग में नहीं शामिल हैं और अखबार ने उनकी ही तस्वीर छापी है.

संबंधित समाचार