आख़िरी गेंद पर छक्का जड़कर दिलाई जीत

  • 14 मई 2012
अंबाती रायुडु इमेज कॉपीरइट AP
Image caption रायुडु ने बेहतरीन पारी खेलकर मुंबई को जीत दिलाई

सोमवार को आईपीएल के दोनों मुकाबले बेहद रोमांचक रहे. पहले में शुरूआती झटकों के बावजूद मुंबई ने बैंगलोर पर जीत दर्ज की और दूसरे में चेन्नई डवेन ब्रावो ने मैच की आख़िरी पर छक्का झड़कर अपनी टीम को जीत दिलाई.

एक उतार-चढ़ाव भरे रोमांचक मैच में मुंबई इंडियंस ने रॉयल चैलेंजर्स बंगलौर को पाँच विकेट से हरा दिया. बंगलौर की टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 171 रनों का स्कोर खड़ा कर लिया था और जवाब में मुंबई की टीम ने नौवें ओवर में 51 रनों पर ही पाँच विकेट गँवा दिए थे.

मगर उसके बाद अंबाती रायुडु और केरॉन पोलार्ड ने जीत की जिम्मेदारी उठाई. दोनों ने अगले 65 गेंदों में 122 रन जोड़कर टीम को जीत तक पहुँचा दिया. रायुडु ने 54 गेंदों में धुआँधार 81 रन बनाए, जिसमें छह चौके और चार छक्के शामिल थे. दूसरे छोर से पोलार्ड ने 31 गेंदों में पाँच चौकों और तीन छक्कों की मदद से 52 रन बनाए.

इससे पहले बंगलौर ने अपनी पारी के तीसरे ओवर में ही क्रिस गेल और विराट कोहली का विकेट खो दिया. उसके बाद बंगलौर की पारी को सँभाला तिलकरत्ने दिलशान ने और मयंक अग्रवाल ने.

खास तौर पर मयंक अग्रवाल ने सिर्फ़ 30 गेंदों में 60 रन जोड़कर बंगलौर को 171 रनों तक पहुँचने में मदद की. इस पारी में मयंक ने छह चौके और चार छक्के जड़े. इसके बाद मुंबई की टीम जब खेलने उतरी तो पहले ही ओवर में सचिन तेंदुलकर आउट हो गए. जहीर खान की गेंद पर विराट कोहली ने उनका कैच लपका.

हर्शल गिब्स भी छह गेंदों पर दो ही रन बना सके और रन आउट हो गए. टीम के एक अन्य भरोसेमंद बल्लेबाज रोहित शर्मा सात गेंदों पर पाँच रन बना सके और विनय कुमार ने अपनी ही गेंद पर उनका कैच लिया.

इस जीत के साथ ही मुंबई इंडियंस दूसरे स्थान पर पहुँच गया है. मुंबई के अब 14 मैचों में 18 अंक हो गए हैं. इस हार के बाद रॉयल चैलेंजर्स बंगलौर के 14 मैचों में 15 अंक हैं और वह पाँचवें स्थान पर है.

आख़िरी गेंद पर छक्का

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption आखिरी गेंद छक्का मारकर जिताया ब्रावो ने चेन्नई को मैच

दिन का दूसरा मैच भी कम दिलचस्प नहीं रहा. कोलकाता के ईडन गार्डन्स में नाइट रायडर्स ने पहले बैटिंग करते हुए 158 रन बनाए. कप्तान गौतम गंभीर एक बार फिर लय में दिखे और उन्होने 62 रनों का योगदान दिया.

इस लक्ष्य का पीछा करने उतरी चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम को मुरली विजय और माइकल हस्सी ने सधी हुई शुरूआत देते हुए पहली विकेट के लिए 97 रन जोड़े.

मैच के आख़िरी ओवर में चेन्नई को मात्र नौ रन चाहिए थे जोकि टी20 मैच के हिसाब से हासिल करने लायक लक्ष्य था लेकिन कोलकाता के गेंदबाज़ रजत भाटिया ने कमाल की गेंदबाज़ी की.

उन्होंने आख़िरी ओवर की पहली गेंद पर एक रन दिया और दूसरी पर महेंद्र सिंह धोनी का विकेट झटक लिया. धोनी की जगह बैटिंग करने आए रविंद्र जाडेजा ने तीसरी गेंद पर दो रन और चौथी पर एक रन लिया.

अब दो गेंदों पर पांच रन चाहिए थे. लेकिन पांचवी गेंद पर रजत भाटिया ने शानदार लेगकटर डालकर डवेन ब्रावो को कोई रन नहीं लेने दिया.

अब सिर्फ़ छक्का ही चेन्नई को जीता सकता था. पांच गेंदो पर सिर्फ़ चार रन देने वाले रजत भाटिया की आखिरी गेंद पर कोलकाता का भविष्य टिका था.

लेकिन भाटिया चूक गए और यॉर्कर करने के प्रयास में ब्रावो को फ़ुट टॉस गेंद दे बैठे. डवेन ब्रावो ने गेंद लॉग ऑन बाउंड्री के बाहर छह रनों के लिए भेज दिया.

और इस तरह इस वर्ष की आईपीएल का एक और मैच आख़िरी गेंद पर ख़त्म हुआ.

संबंधित समाचार