विंबलडन:सट्टे से होगा ऑक्सफैम का फायदा?

  • 3 जुलाई 2012
फेडरर इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption ऑक्सफैम के प्रवक्ता ने कहा कि वो फेडरर के जीत की कामना करते है.

विंबलडन प्रतियोगिता में रोजर फेडरर पर एक दानकर्ता का सट्टा अगर सही साबित होता है, तो गैरसरकारी संस्था ऑक्सफैम को एक लाख पाउंड का ईनाम मिल सकता है.

ऑक्सफोर्डशर में रहने वाले निक न्यूलाइफ ने साल 2003 में रोजर फेडरर पर 1520 पाउंड का सट्टा लगाया कि वो साल 2019 तक सात विंबलडन खिताब जीत लेंगे.

साल 2009 में 59 वर्ष की आयु में न्यूलाइफ की मौत हो गई थी, लेकिन उन्होंने सट्टे की रसीद दान के तौर पर ऑक्सफैम को दे दी, जिसकी कीमत अब लगभग 101,840 पाउंड हो चुकी है.

ऑक्सफैम के प्रवक्ता ने कहा कि वो फेडरर के जीत की कामना करते है.

न्यूलाइफ ने सट्टेबाज विलियम हिल को साल 2003 में पत्र लिखकर सट्टे का आवेदन किया था.

सट्टेबाज ग्राहम शार्प ने कहा कि न्यूलाइफ का सट्टा अनोखा और अदभुत है.

'अदभुत' सट्टा

शार्प ने कहा कि ये जिस तरह का सट्टा है उस तरह का सट्टा आने वाले समय में दिख पाना संभव नहीं है.

शार्प ने कहा, “इस सट्टे के बारे में कई लोगों ने फेडरर को भी अवगत कराया है. मुझे नहीं पता कि वो इस लोकसेवा के कार्य के लिए किस तरह से सोच रहे है.”

ऑक्सफैम के अधिकारी एंड्रयू बारटन ने कहा, “लोगों की मौत के बाद उनके वसीयत से हमें दान के रूप में एक बड़ा हिस्सा मिलता है, इसलिए वो हमारे लिए जरूरी है.”

बारटन ने कहा, “हम रोजर फेडरर को विंबलडन के लिए दुवाएं और शुभकामनाए देते है.”

फेडरर और जेवियर मलाइस के बीच सोमवार को हुए मुकाबले के दौरान फेडरर को पीठ दर्द से दो-चार होना पड़ा.

नोवाक जोकोविच के बाद फेडरर ही इस विंबलडन खिताब के सबसे प्रबल दावेदार दिख रहे है.

संबंधित समाचार