वीरेंदर, जहीर पर आज होगी नजर

  • 21 जुलाई 2012
भारत इमेज कॉपीरइट bbc
Image caption भारतीय टीम शनिवार को लंबे आराम के बाद दिन-रात के इस मुकाबले में खेलने उतरेगी

पांच मैंचों की सीरीज के पहले वनडे में भारत और श्रीलंका हंबनटोटा में शनिवार को एक- दूसरे से सामने होंगे. यह सीरीज भारत के लिए सीजन की शुरुआत होगी.

भारतीय टीम लंबे आराम के बाद दिन-रात के इस मुकाबले में खेलने उतरेगी. जबकि श्रीलंका लगातार क्रिकेट खेल रहा है. भारत के लिए यह सीरीज चोट से उबर कर मैदान पर लौटे वीरेंदर सहवाग और जहीर खान जैसे स्टार खिलाड़ियों की फिटनेस जांचने का भी मौका है.

सीरीज शुरू होने से पहले सवाल किया जा रहा था कि बल्लेबाजी के क्रम में नंबर सात पर किसे मौका दिया जाना चाहिए. शुक्रवार को कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने इसे लेकर स्थित कुछ हद तक साफ कर दी.

इरफान का इस्तेमाल

धोनी ने कहा, “ इरफान पठान के रहने से हमें पांच विशेषज्ञ गेंदबाजों के साथ खेलने की आजादी मिलती है. हम दो स्पिनर और तीन तेज गेंदबाजों के साथ उतर सकते हैं क्योंकि इरफान बल्लेबाजी भी कर सकते हैं.”

इस सीरीज में सब की निगाहें ओपनर सहवाग पर भी रहेंगी क्योंकि पिछले साल वर्ल्ड कप के बाद से वह अपनी चोटों से जूझ रहे हैं. विश्व कप के बाद पिछले 15 महीनों में इंदौर में दिसंबर 2011 में वेस्टइंडीज के खिलाफ 219 की रिकॉर्ड पारी को छोड़ दे तो सहवाग इस दौरान 30 रनों से उपर नहीं जा पाए हैं.

जहीर का वापसी

हालांकि धोनी के लिए लंबी चोट से उबर कर लौटे जहीर का सही इस्तेमाल भी चुनौती होगा.

इस बारे में पूछे जाने पर धोनी ने कहा, “ यकीनन जहीर का सही ढंग से इस्तेमाल काफी अहम है. लेकिन मुझे नहीं लगता कि पहले ही मैच से इस बारे में सोचना चाहिए. यह भी जरुरी है कि वह मैच के लिए जरूरी फिटनेस को बरकरार रखें.”

वैसे अच्छी फॉर्म के साथ सीरीज में पहुंचे युवा पेसर उमेश यादव की मौजूदगी से जहीर पर भार थोड़ा कम होगा.

श्रीलंकाई तैयार

श्रीलंकाई टीम ने पिछले कुछ महीनों में अपने बल्लेबाजी के क्रम में काफी बदलाव किए हैं. इसलिए यह देखना रोचक होगा कि ओपनिंग महेला जयवर्धने खुद करते हैं या फिर उपल थंरगा को ही यह जिम्मेदारी दी जाती है क्योंकि पाकिस्तान के खिलाफ उनकी फॉर्म खराब थी.

अपनी टीम की तैयारियों के बारे में कप्तान जयवर्धने ने कहा, “ टीम को अच्छी मैच प्रैक्टिस मिली है और हम अच्छी फॉर्म में हैं और इस सीरीज में हम इसे बरकरार रखने की कोशिश करेंगे. हालांकि भारतीयों के लिए यह आसान नहीं होगा क्योंकि उन्हें पहले लय हासिल करनी होगी.”

भारतीयों के लिए लंबे आराम के बाद लौटने के अलावा हंबनटोटा की पिच भी चुनौती होगी. श्रीलंका के बंदरगाह शहर में यह स्टेडियम विश्व कप के लिए बनाया गया था. भारत ने यहां की पिच पर अभी तक कोई मैच नहीं खेला है.

संबंधित समाचार