ओलंपिक में नाचने वाले पादरी

  • 27 जुलाई 2012
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

ब्रिटेन और यूरोप के बड़े खेल आयोजनों में नाचकर 'धार्मिक संदेश' देने के लिए पहुँचने वाले नील होरान ख़ुद को 'डांसिंग प्रीस्ट' या नर्तक पादरी कहते हैं, मगर आयोजक उन्हें एक उत्पाती के तौर पर देखते हैं.

वे ब्रिटिश ग्रां-प्री मोटर रेसिंग में बाधा पहुँचाने के लिए दो महीने की जेल काट चुके हैं और एथेंस ओलंपिक में 'मैराथन में दौड़ने के लिए' जेल जाते-जाते बचे थे.

नील होरान की वजह से 2004 में एथेंस ओलंपिक में ब्राज़ील के हाथों से एक स्वर्ण पदक छिन गया, होरान ने मैराथन में पहले नंबर पर चल रहे ब्राज़ील के वांदेरलाइ लीमा को धक्का दे दिया जिसकी वजह से वे पिछड़ गए और उन्हें कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा.

कड़ी सुरक्षा को चकमा देकर ओलंपिक ट्रैक पर दौड़ लगाने के लिए उन पर 3000 यूरो का जुर्माना लगाया गया, मगर जज ने उनकी 'मानसिक स्थिति को ध्यान में रखते हुए' कारवास की सज़ा माफ़ कर दी.

इससे पहले 2003 में मोटर रेसिंग के सिल्वरस्टन ट्रैक पर तेज़ रफ़्तार से दौड़ती गाड़ियों के बीच खड़े होकर उन्होंने एक बैनर लहराया था, जिस पर लिखा था-- "बाइबल पढ़ो, बाइबल हमेशा सही बात कहता है." फ़ार्मूला वन रेस में बाधा पहुँचाने के लिए उन्हें गिरफ़्तार किया गया था और दो महीने की सज़ा भी हुई थी.

दक्षिण लंदन के पेकहम इलाक़े में आयरिश डांस ख़त्म करके उन्होंने अपना विजिटिंग कार्ड आगे बढ़ाते हुए कहा, "मैं तीन साल पहले ब्रिटेन गॉट टैलेंट में भी आ चुका हूँ. "

अपने साथ हमेशा स्टीरियो लेकर चलने वाले नील होरान ने कहा, "ओलंपिक बहुत बड़ा मौक़ा है, मैं तो मोटर रेसिंग, हॉर्स रेसिंग जैसे हर आयोजन में जाता रहता हूँ, कई बार पुलिस रोक देती है मगर मैं अपना संदेश देता रहूँगा."

दक्षिण लंदन में रहने वाले आयरिश मूल के पादरी नील होरान का धार्मिक जीवन काफ़ी विवादास्पद रहा है, उनका कहना है कि "जीसस क्राइस्ट दोबारा आएँगे और वे इस धरती पर येरूशलम से राज करेंगे."

रोमन कैथोलिक चर्च के वरिष्ठ धार्मिक अधिकारियों ने 'सनसनीखेज़ धार्मिक प्रचार' करने की वजह से उन्हें चर्च से निकाल दिया और दिमाग़ का इलाज कराने की सिफ़ारिश की, मगर नील होरान ख़ुद को "रोमन कैथलिक चर्च से छुट्टी पर" बताते हैं.

नील होरान ने कहा, "जो एक बार पादरी होता है वह हमेशा पादरी होता है, उसे कोई नहीं हटा सकता, मैं इस ओलंपिक में भी अपना धर्मप्रचार करता रहूँगा."

अगर 'डांसिंग प्रीस्ट' आपको ओलंपिक स्टेडियम में दिख जाएँ तो चौंकिएगा मत, वैसे उन्हें रोकने की पूरी कोशिश होगी आयोजकों की.

संबंधित समाचार