नज़र कमज़ोर पर तीर से भेदे दो विश्व रिकार्ड

  • 28 जुलाई 2012
इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption इम डॉंग ह्युन की नज़र कमज़ोर होने के बावजूद उन्होंने तीरंदाज़ी में दो विश्व रिकॉर्ड बनाए.

लंदन ओलंपिक 2012 के पहले ही दिन दो विश्व रिकार्ड टूटे. रिकार्ड तोडने वाले खिलाड़ी इम डॉगं ह्युन की नज़र कमजोर हैं.

दक्षिण कोरिया के तीरंदाज़ ने लॉर्डस के मैदान पर रैंकिग प्रतिस्पर्धा में ही विश्व रिकार्ड तोड़ डाला.

दृष्टि बाधित दक्षिण कोरियाई खिलाड़ी इम डॉगं ह्युन ने व्यक्तिगत स्पर्धा में विश्व रिकार्ड के साथ रैंकिंग दौर में अव्वल स्थान हासिल किया है.

इम डॉगं ह्युन की नज़र काफी कमज़ोर हैं, वो नज़दीक में लिखा कुछ शायद ही पढ़ पाएँ. वो 70 मीटर दूर लगे निशाना को भी साफ तौर पर नहीं देख पाते.

निशाने पर 10 अंक वाले पीले स्थान भर को वो देख पाते हैं, हालांकि उसपर लगी रेखाएं उन्हें नहीं दिखाई देती.

ये उन्हें एक टिमटिमाते बल्ब जैसा दिखता है और इसी अंदाज़े से वो निशाना लगाते हैं.

दो रिकॉर्ड

पिछले दो ओंलपिक में दो स्वर्ण जीत चुके इम डॉगं ने 72 तीर के साथ 696 अंक हासिल किए जोकि उनके पहेल विश्व रिकार्ड से तीन अंक ज्यादा था.

परुष टीम स्पर्धा में अपने साथियों के साथ मिलकर इम डॉगं ने दिन का दूसरा विश्न रिकार्ड बनाया. 216 तीरों के साथ दक्षिण कोरिया की टीम ने 2087 अंक हासिल किए.

पुरुष स्पार्धाओं का स्वर्ण पदक शनिवार को होने वाले मुकाबलों में निर्धारित होगा.

इसी प्रतिस्पर्धा में महिला तींरंदाज़ी में भारत की सबसे बड़ी उम्मीद और मौजूदा विश्व नम्बर एक दीपिका कुमारी को आठवी रैंकिग मिली हैं.

वहीं दीपिका कुमारी, बोमबाल्या देवी और चेक्रोवूलू स्वूरो की संयुक्त महिला टीम को नौंवी रैंकिग मिली है और भारतीय पुरुष टीम को सबसे नीचे 12वीं रैंकिग मिली है.

संबंधित समाचार