ओलंपिक दिन-5 हिट / मिस

हिट

मंगलवार का दिन भारतीय मुक्केबाज देवेंद्रो सिंह के नाम रहा, जिन्होंने 49 किलोग्राम वर्ग के मुकाबले में पहले ही राउंड में अपने प्रतिद्वंद्वी होंडूरास के मुक्केबाज को धराशायी कर दिया.

पहले राउंड के दो मिनट और 24 सेंकेंड में ही रेफरी को मैच रोकना पड़ा. देवेंद्रो की तेजी देखते ही बन रही थी.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption तड़ातड़ पड़े देवेंद्रो के घूसे

उनके मुक्कों से बचने की कोशिश कर रहे होंडूरास के मुक्केबाज की एक नहीं चल रही थी.

देवेंद्रो ने मुक्का बरसाना जारी रखा और फिर रेफरी को दखल देकर मैच रोकना पड़ा.

भारत के बैडमिंटन खिलाड़ी परुपल्ली कश्यप से शायद ही किसी ने उम्मीद लगाई होगी.

लेकिन कश्यप ने अपने प्रदर्शन से सबका मन जीता लिया है.

राउंड रॉबिन मुकाबले के अपने पहले दोनों मैच दो गेम में जीतकर कश्यप ने दिखा दिया है कि वे कितने गंभीर खिलाड़ी हैं.

धूम-धड़ाके और शोर-शराबे से दूर कश्यप कहाँ तक जाएंगे, ये तो पता नहीं. लेकिन उनका खेल जरूर देखने लायक रहा.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption ये शिवेन का रिकॉर्ड

400 मीटर मेडले में उन्होंने विश्व रिकॉर्ड के साथ गोल्ड मेडल जीता था.

200 मीटर व्यक्तिगत मेडले में शिवेन ने 7.57 सेकेंड का समय निकालकर नया ओलंपिक रिकॉर्ड बनाया.

शिवेन को लेकर विवाद भी हुआ, लेकिन डोप टेस्ट में वे पाक-साफ होकर बाहर आईं.

लेकिन ब्रिटेन की महिला टीम ने ब्राजील को हराकर सबको सकते में डाल दिया.

हालाँकि स्कोर तो 1-0 ही रहा, लेकिन ब्रिटेन की महिलाओं ने मैदान पर बेहतरीन खेल का प्रदर्शन किया.

उन्होंने अपने ग्रुप में शीर्ष स्थान भी हासिल किया.

फ्रांस के जो विल्फ्रेड सोंगा ने ओलंपिक के इतिहास का सबसे लंबा मैच खेला और जीता भी.

मिलोस राओनिच के खिलाफ मैच में तीसरे सेट का फैसला 48 गेम में हुआ.

सोंगा ने पहला 6-3 से जीत लिया था, लेकिन वे दूसरा सेट 3-6 से हार गए थे.

तीसरे और निर्णायक सेट में सोंगा 25-23 से जीते.

मिस

हारे भूपति और बोपन्ना

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption भूपति और बोपन्ना को निराशा मिली.

महेश भूपति और रोहन बोपन्ना ने ओलंपिक टेनिस के डबल्स मुकाबले में साथ खेलने के लिए बहुत कुछ किया.

बयानबाजी हुई, शर्तें रखी गईं और आखिरकार उनकी जोड़ी भी बन गई.

लेकिन दूसरे ही दौर में भूपति और बोपन्ना की छुट्टी हो गई.

अब भूपति क्या कहेंगे. उन्होंने ये जोड़ी तो जीतने के लिए बनाई थी.

हार कर जीतने वाले को तो बाजीगर कहते हैं, लेकिन जीत कर भी हार जाने को क्या कहते हैं, नहीं पता.

जो भी हो, ज्वाला गुट्टा और अश्विनी पोनप्पा के लिए ये काफी पीड़ादायक रहा.

महिलाओं के डबल्स बैडमिंटन मुकाबले के अपने आखिरी लीग मैच में भारतीय जोड़ी विजयी रही.

लेकिन मुकाबला इतना तगड़ा था कि समीकरणों में ये जोड़ी पिछड़ गई और बाहर हो गई.

भारत की तीरंदाजी टीम लंदन ओलंपिक में अभी तक सुपर फ्लॉप साबित हुई है.

लगता नहीं कि दीपिका को छोड़कर सभी प्रतियोगियों के हर मुकाबले में बाहर होने के बाद दीपिका कुछ कमाल कर पाएंगी.

इमेज कॉपीरइट PA
Image caption भारतीय तीरंदाज खास प्रदर्शन नहीं कर पा रहे हैं.

लंदन ओलंपिक में दीपिका का प्रदर्शन औसत रहा है.

लगता नहीं कि उनके तरकश से निकले तीर स्वर्ण पदक या किसी पदक तक पहुंच पाएंगे.

चीन और दक्षिण कोरिया की महिलाओं के बीच बैडमिंटन के मुकाबले के दौरान दर्शकों को गुस्सा आ गया.

दरअसल इन दोनों टीमों की महिला खिलाड़ी लगातार गलती पर गलती किए जा रही थी.

दोनों ही टीमें पहले ही क्वॉलिफाई कर चुकी हैं.

ऐसे में उनके इस तरह के खेल से दर्शकों ने उनकी काफी हूटिंग की.

ब्रिटेन ओलंपिक के बैडमिंटन मुकाबलों से बाहर हो गया है.

किसी भी इवेंट में ब्रिटेन का कोई खिलाड़ी या टीम नॉक आउट स्टेज तक नहीं पहुँच पाया.

सिंगल्स में और न तो मिक्स्ड डबल्स में ही.

हालाँकि ब्रिटेन में बैडमिंटन को लेकर अब भी काफी क्रेज है.

संबंधित समाचार