ओलंपिक दिन 15- हिट/मिस

हिट

योगेश्वर दत्त इमेज कॉपीरइट Reuters

पिछले तीन ओलंपिक से अपने दमखम का लोहा मनवाने की कोशिश में लगे भारतीय पहलवान के लिए शनिवार का दिन शुभ साबित हुआ.

योगेश्वर दत्त ने भारत को लंदन ओलंपिक का पाँचवा पदक दिलाया.

उन्होंने 60 किलोग्राम फ्री-स्टाइल वर्ग में कांस्य पदक जीता.

योगेश्वर की ये जीत इसलिए भी खास है कि उन्हें रिपीचेज राउंड में दो मैच और फिर कांस्य पदक के लिए एक मैच खेलना पड़ा.

यानी लगातार तीन मैच जीतकर उन्होंने कांस्य पदक अपने नाम किया.

जमैका के स्टार एथलीट उसैन बोल्ट के लिए लंदन ओलंपिक भी स्वर्णिम साबित हो रहा है.

100 मीटर और 200 मीटर की दौड़ का स्वर्ण जीतने के बाद बोल्ट ने 4 गुणा 100 मीटर की रिले दौड़ में भी जमैका को स्वर्ण पदक दिलवा दिया है.

जमैका की टीम ने 36.84 सेकेंड का समय लगाकर नया विश्व रिकॉर्ड भी स्थापित किया.

जमैका की ओर से रिले टीम में शामिल थे- नेस्टा कार्टर, माइकल फ्रेटर, योहान ब्लेक और उसैन बोल्ट.

इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीका को रजत पदक से ही संतोष करना पड़ा.

ब्रिटेन के लंबी दूरी के धावक मो फरा ने 10 हजार मीटर के बाद पाँच हजार मीटर की दौड़ में भी स्वर्ण पदक हासिल किया है.

इस तरह लंदन ओलंपिक में उनके खाते में दो स्वर्ण पदक आ गए हैं.

आखिरी क्षणों में बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए मो फरा ने ये कमाल कर दिखाया.

जीत के बाद फरा ने कहा कि उन्हें अपना प्रदर्शन अविश्वसनीय लग रहा है.

जर्मनी की टीम ने ओलंपिक में पुरुष हॉकी का खिताब अपने नाम कर लिया है.

इस तरह उन्होंने अपने खिताब की सफलतापूर्वक रक्षा की है.

फाइनल में जर्मनी ने नीदरलैंड्स को 2-1 से हराया.

जर्मनी की ओर से दोनों गोल फिलिप रेबेन्टे ने किए. दूसरा गोल मैच समाप्त होने के दो मिनट पहले हुआ.

ओलंपिक में पुरुष फुटबॉल प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीतने का ब्राजील का सपना फिर अधूरा रह गया है.

सबको चकित करते हुए मैक्सिको ने फाइनल में ब्राजील को 2-1 से मात दे दी.

मैक्सिको की ओर से दोनों गोल ओरिब पेराल्टा ने किए.

ब्राजील ने निराशाजनक खेल का प्रदर्शन किया और टीम हल्क के गोल की बदौलत एक गोल उतार पाई.

मिस

इमेज कॉपीरइट Getty

कभी जिस भारतीय हॉकी टीम की ओलंपिक में तूती बोलती थी, आज खराब प्रदर्शन से खिलाड़ियों की बोलती बंद है.

छह बार लगातार और कुल मिलाकर आठ स्वर्ण पदक जीतने वाली भारतीय टीम के इतने बुरे दिन आ गए हैं कि वो सबसे आखिर यानी 12वें नंबर पर रही.

11 और 12वें स्थान के लिए हुए मैच में भारत को दक्षिण अफ्रीका ने 3-2 से हराया.

यानी लंदन ओलंपिक में भारतीय टीम एक भी मैच नहीं जीत पाई.

एथलेटिक्स में भारत का निराशाजनक प्रदर्शन जारी है.

50 किलोमीटर वॉक में भारत की ओर से बसंत बहादुर राणा ने हिस्सा लिया.

लेकिन जानते हैं वे किस नंबर पर आए. नहीं, तो जान लीजिए.

बसंत बहादुर राणा 36वें नंबर पर आए. ये जरूर है कि उन्होंने तीन घंटे 56 मिनट और 48 सेकेंड का समय लेकर नया राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया.

लेकिन ओलंपिक में पदक हासिल करने के लिए राष्ट्रीय रिकॉर्ड का कोई मतलब नहीं.

सीरिया की ओर से महिलाओं की 400 मीटर बाधा दौड़ में शामिल होने वाली धावक गफरान अल मोहम्मद को प्रतिबंधित दवाओं के सेवन का दोषी पाया गया है.

इसके बाद उन्हें ओलंपिक से अयोग्य करार दिया गया है.

अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के मुताबिक उनके 'ए' और 'बी' सैंपल की जाँच में प्रतिबंधित दवाओं के सेवन की पुष्टि हुई है.

सीरिया की ओलंपिक टीम में चार महिलाएँ शामिल थी, जिनमें से गफरान भी एक थी.

इमेज कॉपीरइट Reuters

दक्षिण अफ्रीका की चर्चित धाविका केस्टर सेमेन्या 800 मीटर की दौड़ में स्वर्ण पदक नहीं जीत पाई हैं.

सबसे तेज गति से दौड़कर 800 मीटर के फाइनल में जगह बनाने वाली सेमेन्या पिछड़ गईं.

रूस की मारिया सवीनोवा ने स्वर्ण पदक जीता, जबकि रूस की ही एकटेरिना प्वाइटोगोवा को कांस्य मिला.

बीजिंग ओलंपिक में 800 मीटर का खिताब जीतने वाली कीनिया की पामेला जेलिमो चौथे नंबर पर रहीं.

पुरुषों की 4 गुणा 100 मीटर में बोल्ट की अगुआई में जमैका की टीम को गोल्ड मेडल तो मिला.

लेकिन कनाडा की टीम दुर्भाग्यशाली रही और कांस्य गवाँ बैठी.

पहले कनाडा की टीम को कांस्य देने की घोषणा हुई थी.

लेकिन तीसरे लेग के धावक के अपने लेन से आगे निकल जाने के कारण कनाडा से पदक छीन लिया गया.

संबंधित समाचार