एक-दूसरे को तौलेंगे भारत और पाकिस्तान

भारतीय टीम
Image caption भारतीय टीम की कमान एक बार फिर महेंद्र सिंह धोनी के हाथों में है

श्रीलंका में हो रहे टी-20 क्रिकेट विश्वकप में सोमवार को भारत का मुकाबला पाकिस्तान से होगा. ये भले ही अभ्यास मैच है, लेकिन इस पर दर्शकों और विश्लेषकों सभी की नज़र रहेगी.

क्रिकेट की दुनिया में चिर-प्रतिद्वंद्वी ये दोनों टीमें एक-एक टी-20 विश्वकप जीत चुकी हैं और इस बार भी खिताब के लिए प्रबल दावेदार मानी जा रही हैं.

भारत और पाकिस्तान ही वो दो टीमें हैं जिनके बीच साल 2007 में पहले टी-20 विश्वकप के लिए खिताबी भिड़ंत हुई थी.

तब जोहानेसबर्ग में खेले गए फाइनल मुकाबले में भारत ने पाकिस्तान को पांच रन से हरा दिया था.

टी-20 विश्वकप के नज़ारे

पाकिस्तान ने इसके बाद वर्ष 2009 में श्रीलंका को हराकर दूसरा विश्वकप अपने नाम करके पहले विश्वकप में हार के गम को खुशी में बदल लिया था.

पहले टी-20 विश्वकप के फ़ाइनल मैच के आखिरी ओवर में गेंदबाज़ी करने वाले भारतीय गेंदबाज जोगिंदर शर्मा भारत और पाकिस्तान के बीच इस अभ्यास मैच को बड़ा अहम मानते हैं.

उनका कहना है कि एशियाई विकेट पर दो एशियाई टीमों के बीच होने वाला ये मुकाबला खास होगा क्योंकि भारतीय टीम में पाकिस्तान के खिलाफ जीत का जज़्बा हमेशा ही ज़्यादा होता है.

भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाले क्रिकेट मुकाबलों में दर्शकों की दिलचस्पी का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि टी-20 विश्व कप से पहले होने वाले अभ्यास मैचों में यही एकमात्र मुकाबला है जिसका टीवी पर सीधा प्रसारण किया जाएगा.

दोनों टीमें आखिरी बार साल 2011 में विश्वकप के सेमी-फाइनल में भिड़ी थीं. उसके बाद से भारत और पाकिस्तान के बीच ये पहला मुकाबला होगा.

अभ्यास मैच वैसे तो इसलिए खेले जाते हैं कि टीमें विदेशी मैदानों और वहां की आबोहवा को समझकर अपनी लय में आ सकें.

लेकिन सोमवार को होने वाला मैच, दोनों टीमों को सुपर-8 मुकाबले के लिए एक-दूसरी की मज़बूती को जानने और कमज़ोरी को भांपने का मौका भी देगा.

भारत के लिए अच्छी खबर ये है कि गौतम गंभीर श्रीलंका के खिलाफ अभ्यास मैच में लगी चोट से उबर गए हैं और वो मैच खेलने के लिए तैयार हैं.

वहीं पाकिस्तान के खिलाड़ियों में सबकी नज़रें सईद अजमल और शाहिद अफरीदी पर रहेंगी जो मैच का रुख किसी भी पल बदलने के अपने हुनर के लिए जाने जाते हैं.

संबंधित समाचार