गरजेगा युवराज या चमकेगी ब्रॉड की बॉल

 रविवार, 23 सितंबर, 2012 को 13:03 IST तक के समाचार
युवराज

जब से इंग्लैंड ने भारत को साल भर पहले घरेलू मैदानों पर जम कर धोया है, तब से इन दोनों टीमों के बीच में खासी ताना-तानी रही है.

मामला चाहे आईपीएल का हो या फिर कोई और, दोनों ही टीमों के बीच सोशल मीडिया से लेकर मैदान तक एक जंग सा ही माहौल है.

रविवार को जब ये दोनों टीमें कोलंबो के प्रेमदासा स्टेडियम में भिड़ेंगी तब सबसे ज़्यादा यादें ताज़ा रहेंगी साल 2007 के टी20 विश्व कप की.

जी हाँ, उसके बाद से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में बहुत पानी बह चुका है. एक तरफ भारत जहाँ एकदिवसीय क्रिकेट में विश्व चैम्पियन बना है तो वहीं दूसरी तरफ आईसीसी रैंकिंग में शीर्ष तक पहुँच कर नीचे भी गिरा है. जबकि इंग्लैंड ने पिछला टी20 विश्व कप ही जीत लिया है घरेलू मैदानों पर.

आमने-सामने

लेकिन रविवार के मैच में पत्रकारों से लेकर खेल प्रेमियों तक की निगाहें दो ऐसे खिलाड़ियों पर रहेंगी जिनका एक यादगार मुकाबला 2007 में दक्षिण अफ्रीका में हुआ था.

युवराज सिंह और स्टुअर्ट ब्रॉड! युवराज सिंह ने कैंसर जैसी घातक बीमारी से उबरने के बाद इसी प्रतियोगिता की साथ टीम इंडीय में दोबारा एंट्री मारी है जबकि स्टुअर्ट ब्रॉड इस टी20 की इंग्लैंड टीम के कप्तान हैं.

रविवार के मैच में सबकी निगाहें युवराज सिंह पर टिकी हैं

2007 में इन दोनों खिलाड़ियों के बीच एक यादगार जंग तब हुई थी जब युवी ने पांच साल पहले हुए एक मैच में ब्रॉड के एक ओवर की छह गेंदों पर छह छक्के जड़े थे.

शायद आज तक ब्रॉड उस 'अपमान' से जूझ रहे हैं. क्योंकि शुक्रवार को हुई एक प्रेस वार्ता में एक भारतीय पत्रकार ने उन्हें इस दौर की याद दिलाई तो तपाक से ब्रॉड ने पलट के जवाब किया, "आपका सवाल क्या है, वो पूछें".

महत्व

हालांकि रविवार को कोलंबो में ग्रुप ए के इस मैच का कोई बहुत बड़ा महत्व नहीं है.

भारत और इंग्लैंड दोनों ही अगले दौर यानी सुपर आठ में स्थान बना चुके हैं और रविवार का मैच महज़ एक औपचारिकता सी है.

लेकिन इन दोनों टीमों के तेवर को देखते हुए ये भिडंत बेहद अहम हो जाती है और कोई अजब नहीं की आगे चल कर ये दोनों टीमें फिर एक दूसरे के रास्ते में हों.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.