डेयरडेविल्स जीते लेकिन पसीना बहा कर

 सोमवार, 22 अक्तूबर, 2012 को 08:54 IST तक के समाचार

सहवाग ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी से परहेज किया

लगभग भुलाए जा चुके अजीत अगरकर के ऑल राउंड खेल और वीरेंद्र सहवाग के अर्द्ध शतक की मदद से दिल्ली डेयरडेविल्स ने पर्थ स्कॉर्चर्स को तीन विकटों से हरा दिया.

मॉरकल और अगरकर की सटीक गेंदबाजी के चलते स्कॉर्चर्स 20 ओवरों में 5 विकेट खोकर मात्र 121 रन बना पाए. जवाब में दिल्ली के विकेट भी गिरते रहे लेकिन अंतत: उन्होंने अपना लक्ष्य 19.3 ओवरों में प्राप्त कर लिया.

इस जीत से दिल्ली के तीन मैचों में 10 अंक हो गए हैं और अभी भी उनके लिए सेमी फाइनल में पहुँचने का मौका है. जबकि इस हार के साथ पर्थ के आगे बढ़ने के सभी दरवाजे बंद हो गए हैं.

सहवाग का संयम

सहवाग ने 44 गेंदों पर 52 रनों की शानदार पारी खेली. आमतौर से विध्वंसक बैटिंग करने वाले सहवाग ने इस मैच में काफी संयम से खेला और ढ़ीली गेंदों का इंतेजार किया.

सहवाग के आउट होने के बाद आए आगरकर ने दबाव में दो चौक्के लगाए और 11 रनों की मूल्यवान पारी खेली. दिल्ली को आखिरी ओवर में 8 रनों की जरूरत थी.

आगरकर ने पहले रिमिंगटन की गेंद पर कवर ड्राइव किया और फिर एक रन ले लिया. दिल्ली को अब चार गेंदों में तीन रन चाहिए थे.

नेगी ने मिड विकेट पर चौक्का लगा कर यह औपचारिकता पूरी की. दिल्ली की सरफ से वैसे सबसे अधिक 3 विकेट मॉरकल ने लिए लेकिन अगरकर ने मध्य ओवरों में मात्र 14 रन दे कर 2 खिलाड़ियों को आउट किया.

पर्थ की तरफ से शॉन मार्श ने सबसे अधिक 39 रन बनाए लेकिन उन्होंनें अपनी शुरुआत बहुत धीमी की और उनके शुरू के 15 रन 25 गेंदों में बने.

केकेआर का भी जलवा

एक दूसरे मैच में कोलकता नाइटराइडर्स ने टाइटंस पर 99 रनों की बड़ी जीत दर्ज की. पहले खेलते हुए केकेआर ने 188 रन बनाए. और फिर टाइटंस को मात्र 89 रनों पर धराशाई कर दिया.

केकेआर की ओर से गंभीर, मैकुलम और देबब्रत दास ने शानदार बल्लेबाजी की. दास ने सिर्फ 19 गेंदों पर 43 नाबाद रन बनाए जिसमें अंतिम ओवर में लगाए गए दो छक्के भी शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.