देखिए क्या खेल रहे है इंग्लैंड, अमरीका पंजाब में

कबड्डी

कबड्डी कबड्डी...करते इंग्लैंड, अमरीका और कनाडा जैसी टीमों के खिलाड़ियों को देख आजकल पंजाब के लोग काफी उत्साहित नज़र आ रहे हैं.

पंजाब में इस समय विश्वभर से पुरुषों और महिलाओं की 21 टीमें कबड्डी के तीसरे वर्ल्ड कप में भाग ले रही हैं.

ब्रिटेन से इंग्लैंड के अलावा स्कॉटलैंड की टीम भी भाग ले रही है. डेनमार्क, ईरान, न्यूज़ीलैंड, इटली, सिएरा लियोन, नॉर्वे, अफगानिस्तान की टीमें भी इसमें हिस्सा ले रही हैं.

भारत-पाकिस्तान का क्रेज़

खास बात यह है कि भारत और पाकिस्तान के क्रिकेट खेलने की संभावना पर हमेशा चर्चा होती रहती है.

लेकिन यह दोनों टीमें कबड्डी में एक दूसरे का न केवल सामना करती आई हैं, बल्कि एक-दूसरे के देशों का दौरा भी करती रही हैं.

पाकिस्तान से 19 सदस्यों की टीम पंजाब में वर्ल्ड कप में हिस्सा ले रही हैं. पिछले ही महीने भारत की टीम वहां से एशिया कप खेल कर लौटी है.

यह कप पाकिस्तान ने भारत को हराकर जीता था.

इस बार भी कबड्डी के प्रशंसक 15 दिसंबर को लुधियाना में होने वाले फाइनल में इन्हीं दोनों देशों के आमने-सामने होने की उम्मीद कर रहे हैं.

'घर जैसा माहौल'

पाकिस्तान टीम के कोच ताहिर वहीद जट्ट का भी यही मानना है.

बीबीसी से बात करते हुए उन्होंने कहा, ''हम तो यहां पर घर जैसा ही महसूस कर रहे हैं. हमारा देहात का खेल है और अच्छा लगता है जब हिंदुस्तान और पाकिस्तान खेलते हैं.''

उन्होंने कहा, ''खेल की बात करें तो कई टीमें अच्छी हैं जैसे कनाडा, इटली. हमें उम्मीद है कि पाकिस्तान और भारत की टीमों में कड़ी टक्कर होगी.''

वीज़ा को लेकर कोई मुश्किल तो नहीं होती? इस सवाल पर उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है. उन्होंने बताया, ''हमारे गृह मंत्रालय इस प्रक्रिया में शामिल होते हैं. पिछले महीने जब भारत के खिलाड़ी पाकिस्तान गए थे, तो उन्हें भी कोई मुश्किल नहीं हुई थी.''

टीमों में भारतीय खिलाड़ी

महिलाओं में कनाडा और डेनमार्क की टीमें पहली बार विश्व कप में हिस्सा ले रही हैं जबकि भारत, अमरीका, इंग्लैंड और तुर्कमेनिस्तान की टीमें पिछली बार भी विश्व कप का हिस्सा थीं.

वैसे ऐसी कई टीमें हैं जिनमें मूल रूप से भारत के खिलाड़ी शामिल हैं.

भारत के कोच हरप्रीत सिंह बाबा का कहना है कि भारतीय खिलाड़ी चार-पांच टीमों में देखे जा सकते हैं.

धीरे ही सही, कबड्डी सारे विश्व में मशहूर हो रही है. वे कहते हैं, ''पहले कप में 7-8 टीमें थीं और तीसरे में आप देख रहे हैं कि अकेले पुरुषों की 15 टीमें हिस्सा ले रही हैं.''

संबंधित समाचार