श्रीलंका ने ऑस्ट्रेलिया को नाकों चने चबवाए

  • 18 जनवरी 2013
नुवान कुलसेखरा
Image caption नुवान कुलसेखरा ने पाँच प्रमुख खिलाड़ियों को पवेलियन की राह दिखाई

ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गई श्रीलंका क्रिकेट टीम ने मेज़बानों को तीसरे वनडे मैच में नाकों चने चबवा दिए.

नुवान कुलसेखरा ने पाँच विकेट लेकर ऑस्ट्रेलियाई शीर्ष क्रम को इस क़दर झकझोर दिया कि पूरी टीम शर्मनाक ढंग से 74 रनों पर आउट हो गई और उसके बाद श्रीलंका ने चार विकेट से जीत दर्ज कर ली.

ये स्कोर पिछले 27 वर्षों में ऑस्ट्रेलिया का दूसरा सबसे कम स्कोर था.

इसके बाद श्रीलंका की टीम भी डगमगाई मगर आख़िरकार उसने जीत हासिल कर ली.

महेला जयवर्द्धने ने एक, तिलकरत्ने दिलशान ने 22, लहिरू तिरिमाने ने सात, उपुल तरंगा ने 12 और अजंता मेंडिस ने दो रन बनाए.

एंजेलो मैथ्यूज़ बिना खाता खोले आउट हो गए रन जबकि कुशाल परेरा 22 रन बनाकर और तिसारा परेरा चार रन पर नॉट आउट रहे.

ऑस्ट्रेलियाई टीम में कप्तान माइकल क्लार्क के अलावा डेविड वॉर्नर और मैथ्यू वेड जैसे जाने-माने बल्लेबाज़ों की भी वापसी हुई थी मगर कुलसेखरा ने 22 रनों पर पाँच विकेट लिए और ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ी चरमरा गई.

कुलसेखरा के पाँच विकेट

ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतने के बाद पहले बल्लेबाज़ी करने का फ़ैसला किया था मगर एक बार जब एंजेलो मैथ्यूज़ ने 10 रनों के स्कोर पर वॉर्नर के रूप में पहला विकेट लिया तो उसके बाद कुलसेखरा ने फ़िल ह्यूज़, डेविड हसी, जॉर्ज बेली, माइकल क्लार्क और मोइज़ेज़ हेनरीकेस को एक के बाद एक आउट करके टीम को छह विकेट के नुक़सान पर 30 रनों तक पहुँचा दिया.

ऑस्ट्रेलिया का सबसे कम वनडे स्कोर 70 रनों का है जो उन्होंने 1977 में इंग्लैंड के विरुद्ध बनाए थे. इसके बाद 1986 में एडीलेड में न्यूज़ीलैंड के विरुद्ध भी उन्होंने इतने ही रन बनाए थे.

अगर 22 रन बनाने वाले मिचेल स्टार्क कुछ टिके न होते तो ऑस्ट्रेलिया ने ये रिकॉर्ड तोड़ दिया होता क्योंक टीम सिर्फ़ 40 रनों पर नौ विकेट गँवा चुकी थी.

पहला वनडे ऑस्ट्रेलिया ने श्रीलंका को 107 रनों से हराकर जीता था जबकि दूसरे वनडे में श्रीलंका ने आठ रनों से जीत हासिल की थी.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार