कैप्टन कूल धोनी क्या टेस्ट मैच भी जिता पाएंगे?

 सोमवार, 28 जनवरी, 2013 को 11:04 IST तक के समाचार
महेंद्र सिंह धोनी

धोनी की कप्तानी पर सवाल उठते रहे हैं

इंग्लैंड के ख़िलाफ एकदिवसीय सीरीज़ अपने नाम करने के साथ ही भारत के कप्तान महेंन्द्र सिंह धोनी के चेहरे की मुस्कान एक बार फिर लौट आई है, हो भी क्यों ना, खासकर तक जब लगातार हार का सामना करने के बाद आलोचनाओं का स्वर भी तेज़ हो रहा हो.

इससे पहले, भारत अपनी ही ज़मीन पर पाकिस्तान से एकदिवसीय सीरीज़ 2-1 से और इंग्लैंड से चार टेस्ट मैचों की सीरीज़ 2-1 से हारा था.

इंग्लैंड से एकदिवसीय सीरीज़ से पहले महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी को लेकर सवाल खडे किए जा रहे थे.

अब होना तो यह चाहिए था कि धोनी की कप्तानी को लेकर उहापोह की स्थिति समाप्त होती और उनकी कप्तानी की क्षमता पर भरोसा किया जाता, लेकिन इसके ठीक उलट अब भी उनकी कप्तानी सबको रास नही आ रही. अब सवाल उनकी टेस्ट कप्तानी पर उठ रहे है.

कौन उठा रहा है सवाल

"लेकिन समय आ गया है कि जब टेस्ट मैच में कप्तान बदला जाए. नए ख़ून को मौक़ा देना होगा, जिससे नए विचार मिल सकें क्योंकि टेस्ट क्रिकेट में पुराने तरह की कप्तानी नहीं चलेगी. कैप्टन कूल रहकर धोनी टेस्ट मैच नही जीत पाएगें, वहां आक्रामक कप्तान की ज़रूरत है"

मनिंदर सिंह, पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी

सवाल उठाने वालों में इंग्लैंड के पूर्व कप्तान और महान सलामी बल्लेबाज़ ज्योफ्री बॉयकॉट भी शामिल हैं.

उनका कहना है, ''टेस्ट कप्तान के रूप में धोनी की अपनी कुछ सीमाएं हैं, लेकिन तकनीकी रूप से टेस्ट मैचों में इससे कही ज़्यादा की ज़रूरत होती है.''

भारत के पूर्व स्पिनर मनिंदर सिंह का भी कुछ ऐसा ही मानना है.

मनिंदर सिंह कहते हैं. ''धोनी ने जिस तरह से पिछले कुछ मैचों में बल्लेबाज़ी की है, वह क़ाबिले-तारीफ है, उन्होंने बाकी बल्लेबाज़ों के लिए एक उदाहरण भी पेश किया है. उन्होंने पूरे अधिकार और दबदबे के साथ बल्लेबाज़ी कर उन बल्लेबाज़ों को भी रास्ता दिखाया जो भटक गए थे.''

वे कहते हैं, ''लेकिन समय आ गया है कि जब टेस्ट मैच में कप्तान बदला जाए. नए ख़ून को मौक़ा देना होगा, जिससे नए विचार मिल सकें क्योंकि टेस्ट क्रिकेट में पुराने तरह की कप्तानी नहीं चलेगी. कैप्टन कूल रहकर धोनी टेस्ट मैच नही जीत पाएगें, वहां आक्रामक कप्तान की ज़रूरत है.''

भारत के पू्र्व विकेटकीपर बल्लेबाज़ नयन मोंगिया भी टेस्ट क्रिकेट में धोनी के अज़ीबो-ग़रीब फैंसलों को लेकर हैरान हैं.

पर अब इन सब सवालों का जवाब क्या हो- गंभीर और विराट कोहली. बस यह दो नाम सामने हैं, लेकिन इनकी फार्म में निरंतरता की कमी इनके कप्तानी के दावे को कम करती है.

ऐसे में लगता तो यही है कि महेंद्र सिंह धोनी को ही ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ होने वाली आगामी टेस्ट सीरीज़ में भी कप्तान बरक़रार रखा जाए.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.