हैदराबाद टेस्ट में भारत की पकड़ मज़बूत

पुजारा और मुरली विजय
Image caption पुजारा और मुरली विजय ने दूसरे विकेट के लिए रिकॉर्ड साझेदारी की

ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ पहला टेस्ट जीत चुकी भारतीय टीम हैदराबाद में हो रहे दूसरे टेस्ट में भी काफ़ी मज़बूत स्थिति में है.

टेस्ट के तीसरे दिन भारत की टीम अपनी पहली पारी में 503 रन बनाकर आउट हो गई. इस तरह पहली पारी के आधार पर उसे 266 रनों की बढ़त हासिल हो गई है.

इसके बाद भारत ने दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलिया के दो विकेट भी चटका दिए हैं. तीसरे दिन का खेल समाप्त होने तक ऑस्ट्रेलिया ने दो विकेट के नुक़सान पर 74 रन बना लिए हैं.

कोवन 26 और शेन वॉटसन नौ रन बनाकर खेल रहे हैं. दोनों विकेट आर अश्विन ने लिए हैं. डेविड वॉर्नर 26 और फिल ह्यूज बिना कोई रन बनाए आउट हो गए. ऑस्ट्रेलिया की टीम अब भी 192 रन पीछे है.

ऑस्ट्रेलिया ने अपनी पहली पारी नौ विकेट पर 237 रन बनाकर घोषित कर दी थी.

हैदराबाद टेस्ट का तीसरा दिन चेतेश्वर पुजारा के नाम रहा, जिन्होंने अपने टेस्ट करियर का दूसरा दोहरा शतक लगाया और 204 रन बनाकर आउट हुए. पुजारा का ये चौथा टेस्ट शतक था.

अपने करियर में उन्होंने पहला दोहरा शतक इंग्लैंड के ख़िलाफ़ लगाया था. उस समय पुजारा 206 रन बनाकर नाबाद रहे थे.

पहला विकेट

उनके पहले दिन के पहले विकेट के रूप में मुरली विजय आउट हुए. मुरली विजय ने भी 167 रनों की बेहतरीन पारी खेली. मुरली विजय का ये दूसरा टेस्ट शतक था.

पुजारा और मुरली विजय ने तीसरे विकेट के लिए रिकॉर्ड 370 रन जोड़े. दोनों ने सुनील गावसकर और दिलीप वेंगसकर ने 34 साल पुराने रिकॉर्ड को तोड़ा.

वर्ष 1978 में कोलकाता में वेस्टइंडीज़ के ख़िलाफ़ दोनों ने दूसरे विकेट के लिए 344 रन बनाए थे. गावसकर ने 182 और वेंगसकर ने 157 रनों की पारी खेली थी.

मुरली विजय और पुजारा के आउट होने के बाद सचिन भी जल्द ही आउट हो गए. उन्होंने सिर्फ़ सात रन बनाए. महेंद्र सिंह धोनी ने तबाड़तोड़ 44 रनों की पारी खेली.

जबकि विराट कोहली ने 34 रन बनाए. ऑस्ट्रेलिया की ओर से मैक्सवेल ने चार विकेट लिए. डोर्टी को तीन विकेट मिले, जबकि पैटिंसन को दो और सिडल को एक विकेट मिले.

संबंधित समाचार