'मिलर मैजिक' से हवा हुई बंगलौर की उम्मीद

आर सतीश और डेविड मिलर

वो कहते हैं न कि क्रिकेट में कुछ भी असंभव नहीं. जब तक आख़िरी गेंद न फेंकी जाए, मैच का रुख़ पलट सकता है.

आईपीएल-6 के एक मैच में किंग्स इलेवन पंजाब के ख़िलाफ़ रॉयल चैलेंजर्स बंगलौर ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए जब 190 रन बना डाले, तो उन्होंने शायद सोचा नहीं होगा कि मोहाली की पिच पर ये स्कोर भी कम पड़ेगा.

लेकिन मोहाली में वो सब कुछ हुआ, जिसके लिए टी-20 क्रिकेट जाना जाता है. शुरू में बेहतरीन गेंदबाज़ी, लगातार गिरते विकेट, फिर धमाकेदार बल्लेबाज़ी और रनों की बारिश.

किंग्स इलेवन पंजाब ने छह विकेट से मैच जीता, वो भी सिर्फ़ 18 ओवर में. जीत के हीरो रहे डेविड मिलर. जिन्होंने सिर्फ़ 38 गेंदों पर 101 रन बना डाले.

डेविड मिलर ने अपनी पारी में आठ चौके और सात छक्के मारे. आर सतीश के साथ पाँचवें विकेट के लिए उन्होंने सिर्फ़ 50 गेंदों पर 130 रन जोड़े.

ख़राब शुरुआत

Image caption शुरू में ऐसा लग रहा था कि बंगलौर आसानी से मैच जीत जाएगा

जीत के लिए 191 रन के बड़े स्कोर का पीछा कर रही किंग्स इलेवन पंजाब की टीम ने 64 रन पर चार विकेट गँवा दिए थे. उस समय तक शॉन मार्श, मनदीप सिंह, गुरकीरत सिंह और डेविड हसी पवेलियन लौट चुके थे.

41 रन के निजी स्कोर पर डेविड मिलर का कप्तान विराट कोहली ने कैच भी छोड़ दिया, जो टीम के लिए भारी पड़ा.

लेकिन उसके बाद डेविड मिलर और आर सतीश ने जो किया, वो मोहाली के दर्शकों को जल्दी नहीं भूलेगा. आख़िरी पाँच ओवरों में दोनों ने 95 रन बनाए.

इससे पहले किंग्स इलेवन पंजाब की टीम ने टॉस जीतकर पहले फ़ील्डिंग चुनी. रॉयल चैलेंजर्स बंगलौर ने बेहतरीन शुरुआत की. चेतेश्वर पुजारा और क्रिस गेल ने पहले विकेट के लिए 102 रन जोड़े.

गेल ने एक बार फिर आतिशी पारी खेली. उन्होंने 33 गेंदों पर 61 रन बनाए. पुजारा ने 51 रन बनाए, जबकि एबी डी वेलियर्स 38 रन पर नाबाद रहे. कप्तान विराट कोहली सिर्फ़ 14 रन बना पाए.

इस हार के बावजूद रॉयल चैलेंजर्स बंगलौर की टीम अंक तालिका में दूसरे नंबर पर बनी हुई है, जबकि पंजाब की टीम 10 अंकों के साथ छठे नंबर पर है.

संबंधित समाचार