श्रीनिवासन पर बीसीसीआई से हटने का दबाव

Image caption बीसीसीआई प्रमुख हालांकि इस्तीफे से इनकार कर रहे है, लेकिन दूसरी ओर उन पर इस्तीफे के लिए दबाव भी बढ़ता जा रहा है.

बीसीसीआई अध्यक्ष एन श्रीनिवासन पर अपने पद से इस्तीफा देने का दबाव बढ़ता जा रहा है.

श्रीनिवासन के दामाद गुरुनाथ मयप्पन को आईपीएल में सट्टेबाजी और स्पॉट फिक्सिंग में कथित भूमिका के आरोप में गिरफ्तार किया जा चुका है.

मयप्पन की गिरफ्तारी के बाद बीसीसीआई चीफ श्रीनिवासन पर इस्तीफे का दबाव है.

श्रीनिवासन ने टीवी चैनल एनडीटीवी से बातचीत के दौरान कहा है कि यह उनके दामाद के जरिए उन पर निशाना साधने की कोशिश है. उन्होंने कहा कि, "मैंने कुछ भी गलत नहीं किया है. मेरे इस्तीफे का सवाल ही नहीं है. मेरा मन एकदम साफ है."

अपने बचाव के लिए श्रीनिवासन आज मुंबई पहुँच कर बीसीसीआई के बोर्ड सदस्यों से अपने पक्ष में समर्थन की अपील भी करने वाले हैं.

पवार ने खींचा हाथ

Image caption चेन्नई सुपर किंग्स से जुड़े गुरुनाथ मैयप्पन, जिन पर आईपीएल सट्टेबाजी में शामिल होने का आरोप है.

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता डीपी त्रिपाठी ने श्रीनिवासन के इस्तीफे की माँग की है. मुख्य विपक्षी दल भाजपा ने भी श्रीनिवासन के साथ सहानुभूति नहीं दिखाई है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक भाजपा प्रवक्ता प्रकाश जावडेकर ने श्रीनिवासन की निंदा करते हुए कहा है कि, “यदि वह (श्रीनिवासन) कहते हैं कि वह एक प्राइवेट संस्था है तो फिर टीम इंडिया एक राष्ट्रीय टीम कैसे हो सकती है. वे देश का प्रतिनिधित्व कैसे कर सकते हैं.”

श्रीनिवासन के खिलाफ सबसे जोरदार मोर्चा खोलते हुए सहारा इंडिया के अध्यक्ष सुब्रत रॉय ने कहा है कि श्रीनिवासन में नेतृत्व क्षमता का अभाव है और मौजूदा हालात में उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए.

सुब्रत रॉय ने यह भी कहा कि पवार को आगे आकर एक बार फिर बीसीसीआई चीफ की जिम्मेदारी संभालनी चाहिए.

सपा भी खफा

समाजवादी पार्टी के नेता नरेश अग्रवाल ने भी जब तक जाँच पूरी नहीं ही जाती है, तब तक श्रीनिवासन के इस्तीफे का मांग की है.

उन्होंने कहा कि, “हम सभी चिंतित है... छोटे नामों की कीमत पर बड़े नामों को बचाया जा रहा है.”

उन्होंने साथ ही यह कहा कि खेल मंत्रालय को एक कानून बनाकर बीसीसीआई की स्वायत्तता खत्म करना चाहिए.

राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने कहा है कि इस कांड से आईपीएल की विश्वसनीयता घटी है, जबकि देश की गरिमा पर चोट पहुँची है.

उन्होंने कहा कि, “सभी के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए. उन सभी ने यह पैसे के लिए किया है. ये सब बंद होना चाहिए... सब बेईमान हैं.”

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहाँ क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार