जाँच पूरी होने तक श्रीनिवासन बीसीसीआई का काम नहीं देखेंगे

Image caption डालमिया को फिलहाल बोर्ड का कामकाज देखने की ज़िम्मेदारी दी गई है

आईपीएल मामले की जाँच पूरी होने तक एन श्रीनिवासन बीसीसीआई के अध्यक्ष पद से हट गए हैं. उनकी जगह जगमोहन डालमिया काम देखेंगे. आईपीएल विवाद के बाद से श्रीनिवासन पर इस्तीफ़े का दबाव था.

रविवार को चेन्नई में बीसीसीआई की कार्य समिति की आपात बैठक बुलाई गई थी जिसमें ये फ़ैसला लिया गया.

भाजपा नेता अरुण जेटली ने डामलिया के नाम का प्रस्ताव रखा. बताया जा रहा है कि अरुण जेटली, राजीव शुक्ला और अनुराग ठाकुर ने वीडियो कान्फ्रेंस के ज़रिए बैठक में हिस्सा लिया.

बैठक के बाद बेहद छोटी सी प्रेस रिलीज़ जारी की गई जिसमें कहा गया है, "एन श्रीनिवासन ने घोषणा की है कि जब तक जाँच पूरी नहीं हो जाती तब तक वो बोर्ड अध्यक्ष से जुड़ी ज़िम्मेदारियाँ नहीं उठाएँगे. तब तक जगमोहन डालमिया बोर्ड का कामकाज देखेंगे. समिति ने संजय जगदले और अजय शिर्के में पूर्ण विश्वास व्यक्त किया है और उनसे गुज़ारिश की है कि वो अपने इस्तीफ़े वापस ले लें."

भारतीय मीडिया में इस तरह की ख़बरें रविवार सुबह से ही चल रहीं थी कि श्रीनिवासन इस्तीफ़ा देने के लिए तैयार हो गए हैं लेकिन उन्होंने इसके लिए अपनी कुछ शर्तें रखीं हैं.

आईपीएल संकट

टीवी चैनल एनडीटीवी से विशेष बातचीत में एन श्रीनिवासन ने कहा, "बैठक में चर्चा हुई और मैने घोषणा की जाँच पूरी होने तक मैं कामकाज नहीं देखूँगा. बोर्ड का कामकाज देखने की ज़िम्मेदारी डालमिया को दी गई है. हम सबने अजय शिर्के और संजय जगदाले से अनुरोध किया कि वो बोर्ड में वापस आ जाएँ. उन्होंने कहा है कि वे कल तक बताएँगे. आईएस बिंद्रा ने बैठक में मुझसे इस्तीफ़ा नहीं माँगा. बैठक काफ़ी अच्छे माहौल में हुई. मैने सही क़दम उठाया है और माफ़ कीजिए, मैने कुछ ग़लत नहीं किया है."

इससे पहले शनिवार की शाम आईपीएल के चेयरमैन राजीव शुक्ला ने अपने पद से इस्तीफ़ा देने की घोषणा की थी.

राजीव शुक्ला ने अपना पद छोड़ने की घोषणा करते हुए कहा था कि पद छोड़ने का यही सही समय है.

इससे पहले शुक्रवार को बीसीसीआई सचिव संजय जगदाले और कोषाध्यक्ष अजय शिर्के ने इस्तीफ़ा देकर सबको चौंका दिया था.

आईपीएल विवाद में फँसे श्रीनिवासन के दामाद गुरूनाथ मयप्पन की गिरफ़्तारी के बाद से श्रीनिवासन पर इस्तीफ़े का दबाव बना हुआ था.

विवाद की शुरूआत

मामले की शुरूआत तब हुई जब पिछले महीने आईपीएल-6 के मैचों के दोरान दिल्ली की स्पेशल सेल ने राजस्थान रॉयल्स के तीन खिलाड़ियों--श्रीसंत, अंकित चौहान और अजीत चंदेला को स्पॉट फ़िक्सिंग के आरोप में गिरफ़्तार किया था.

हालांकि श्रीसंत समेत राजस्थान रॉयल्स के दूसरे खिलाड़ी खुद को बेक़सूर बता रहे है.

इसके कुछ ही दिनों बाद मुंबई पुलिस ने अभिनेता विंदु दारा सिंह को स्पॉट फ़िक्सिंग और बेटिंग के आरोप में गिरफ़्तार किया.

मुंबई पुलिस के अनुसार विंदु ने पूछताछ के दौरान कथित तौर पर चेन्नई सुपर किंग्स से जुड़े मेयप्पन का नाम लिया था.

विंदु के बाद मुंबई पुलिस ने मेयप्पन को भी स्पॉट फ़िक्सिंग और बेटिंग के आरोप में गिरफ़्तार कर लिया.

( बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)