सचिन की तारीफ़ पाकिस्तान से गद्दारी?

सचिन तेंदुलकर
Image caption सचिन तेंदुलकर ने इसी महीने अपने 24 साल लंबे क्रिकेट करियर के बाद संन्यास लिया है.

पाकिस्तानी क्यों न करें सचिन तेंदुलकर की तारीफ़?

दुनिया भले ही सचिन तेंदुलकर को अव्वल नंबर का बल्लेबाज़ मानती रही हो पर पाकिस्तानी तालिबान के एक नेता का कहना है कि पाकिस्तान के लोगों को उनकी तारीफ़ नहीं करनी चाहिए.

तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान के प्रवक्ता शाहिदुल्लाह शाहिद ने एक वीडियो जारी कर कहा कि मीडिया वालों और पाकिस्तानियों को तेंदुलकर की तारीफ़ नहीं करनी चाहिए क्योंकि ये पाकिस्तानी राष्ट्रवाद और देशभक्ति के ख़िलाफ़ है. उनका कहना है कि पाक टीम के कप्तान मिस्बाह उल हक़ कितना भी घटिया दर्जे के खिलाड़ी हों, फिर भी उनकी तारीफ़ की जानी चाहिए.

सवाल ये है कि क्या सचिन जैसे महान खिलाड़ी की तारीफ़ को किसी देश के प्रति वफ़ादारी से जोड़ा जा सकता है? कितने सहमत या असहमत हैं आप इस विचार से?

इस शनिवार 30 नवंबर को बीबीसी इंडिया बोल में बहस इसी बात पर होगी और इसमें पाकिस्तान के लोग भी हिस्सा लेंगे.

कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए हमें मुफ्त फोन करें 1800-11-7000, या 1800-102-7001 पर. आप बीबीसी हिंदी के फेसबुक पन्ने पर भी अपनी राय शनिवार को ज़ाहिर कर सकते हैं.