एक ही खेल में शतरंज और मुक्केबाजी भी

  • 6 दिसंबर 2013
चेस-बॉक्सिंग

चेस बाक्सिंग, जिसमें शतरंज और मुक्केबाज़ी दोनों का मेल होता है, भारत में इन दिनों ज़ोर पकड़ रहा है.

कोलकाता शहर के एक जिम के भीतर एक बेंच पर दो लोग शतरंज के बोर्ड के सामने बैठे हैं, दोनों ने अपनी हथेलियों को बॉक्सर की तरह कपड़ों से लपेट रखा है. दोनों साथ-साथ एक दूसरे के ख़िलाफ़ मुक्के के दांव भी लगाते जा रहे हैं.

इस खेल में शामिल दोनों प्लेयर क्रमश: शतरंज खेलते हैं और फिर मुक्केबाज़ी करते हैं.

हालांकि इस खेल को भारत में शुरू हुए महज़ दो साल ही हुए हैं लेकिन खेल से जुड़े कई संघ तैयार हो गए हैं जिन्होंने अब तक राज्य स्तर पर 10 चैंपियनशिप मैच आयोजित किए हैं.

सात अन्य राज्यों ने भी खेल में दिलचस्पी दिखाई है.

भारत की क्षमता

बड़े राज्यों महाराष्ट्र, तमिलनाडु और उत्तर प्रदेश में राज्य-स्तर की टीमें तैयार हो गई हैं. उत्तर-पूर्व के छोटे सूबे जैसे त्रिपुरा और मणिपुर की भी इसमें दिलचस्पी है.

इस साल मुल्कों के स्तर पर हुए दो टूर्नामेंटों में से एक में 195 और दूसरे में 245 खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया.

इस वक़्त भारत में चेस-बॉक्सिंग के 300 पंजीकृत खिलाड़ी हैं.

विश्व चेस-बॉक्सिंग संघ के अध्यक्ष लीपि रूबिंग ने भारतीय चेस-बॉक्सिंग संघ को लिखा है कि भारत चेस-बॉक्सिंग के अहम क्षेत्र के तौर पर उभर सकता है.

विश्व चेस-बॉक्सिंग संघ जर्मनी के बर्लिन में मौजूद है. वहीं भारतीय संघ कोलकाता में स्थित है.

दुनियाभर में अमरीका, जर्मनी, रूस, ब्रिटेन और फ्रांस समेत 13 मुल्क हैं जहां चेस-बॉक्सिंग खेला जाता है. नए मुल्कों जैसे भारत, ईरान, चीन वग़ैरह के शामिल होने से खेल को और बढ़ावा मिला है.

खिलाड़ी

मुंबई के 27 साल के शैलेश त्रिपाठी पहले भारतीय खिलाड़ी हैं जिन्होंने 28 नवम्बर को मॉस्को में हुई विश्व बॉक्सिंग चैंपियनशिप में हिस्सा लिया.

त्रिपाठी कहते हैं कि विश्व स्तर पर होने वाला खेल वाक़ई में मस्तिष्क और जिस्म की ताक़त का इम्तिहान होता है.

खेल को भारत में प्रचलित करने का काम भारतीय चेस-बॉक्सिंग संघ के संस्थापक मोंटू दास का है.

संघ की वेबसाइट के मुताबिक़, दास को बचपन से ही किक बॉक्सिंग में दिलचस्पी थी और चेस-बॉक्सिंग के बारे में उन्हें ऑनलाइन से पता चला.

शुरूआत

उन्हें ये खेल बहुत भाया जिसमें 11 राउंड होते हैं, इनमें शतरंज के छह दौर होते हैं. फिर बॉक्सिंग के तीन मिनट के पांच राउंड होते हैं. दोनों खेल बारी-बारी से खेले जाते हैं.

चेस-बॉक्सिंग का ज़िक्र सबसे पहले वर्ष 1992 में फ्रांस के कार्टूनिस्ट इनके बिलाल के ग्राफ़िक नॉवेल में हुआ था.

लीपि रूबिंग ने बाद में इसमें सुधार करके राउंड को कम अवधि का बना दिया ताकि देखने वालों की दिलचस्पी लगातार बनी रहे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार