ऑकलैंड टेस्ट में भारत की हालत ख़स्ता

आउट होकर जाते मुरली विजय इमेज कॉपीरइट Reuters

ऑकलैंड में न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ पहले टेस्ट मैच में भारत की हालत ख़राब है. दूसरे दिन का खेल ख़त्म होते समय भारत ने चार विकेट के नुक़सान पर 130 रन बना लिए थे.

न्यूज़ीलैंड ने अपनी पहली पारी में 503 रन बनाए हैं.

मैच के दूसरे दिन पहली पारी में खेलने उतरी भारतीय टीम ने पहले ही ओवर में अपने दो विकेट गंवा दिए.

शिखर धवन बिना खाता खोले ट्रैंट बोल्ट की दूसरी गेंद पर आउट हो गए. उन्हें केन विलियमसन ने कैच किया.

पारी लड़खड़ाई

टीम इंडिया अभी इस झटके से उबर भी नहीं पाई थी कि इसी ओवर की अंतिम गेंद पर चेतेश्वर पुजारा भी चलते बने. वह केवल एक रन ही बना पाए.

विस्फोटक बल्लेबाज़ विराट कोहली चार रन बनाकर पवेलियन लौटे. उन्हें टिम साउथी ने पीटर फल्टन के हाथों कैच आउट करवाया. इस तरह भारत ने दस विकेट तक अपने तीन विकेट गंवा दिए थे.

चौथा विकेट मुरली विजय के रूप में गिरा. उन्हें 26 रन के व्यक्तिगत स्कोर पर नील वागनर ने बोल्ड किया. विजय ने 60 गेदों का सामना किया और इस दौरान पाँच चौके लगाए.

मैच के दूसरे दिन का खेल ख़त्म होते समय भारत ने 39 ओवर में चार विकेट के नुक़सान पर 130 रन बना लिए थे.

रोहित शर्मा 67 रन और आजिंक्य रहाणे ने 23 रन बना कर क्रीज पर जमे हुए थे. ये दोनों बल्लेबाज़ पांचवें विकेट की अविजित साझेदारी में 79 रन जोड़ चुके हैं.

न्यूज़ीलैंड की पारी

इसके पहले न्यूज़ीलैंड की पूरी टीम 503 रन बनाकर आउट हो गई. भारत की ओर से ईशांत शर्मा सबसे सफल गेंदबाज़ रहे. उन्होंने 33.4 ओवर की गेंदबाज़ी की और 134 रन देते हुए छह विकेट हासिल किए.

ज़हीर ख़ान को दो, मोहम्मद शामी को एक और रविंद्र जडेजा को एक विकेट मिला था. हालांकि मैच में भारत को पहले दिन अच्छी शुरुआत मिली थी. लेकिन टीम उसका फ़ायदा नहीं उठा पाई.

भारत ने न्यूज़ीलैंड के तीन विकेट 30 रन पर ही चटका दिए थे. लेकिन केन विलियम्सन और कप्तान ब्रैंडन मैकुलम ने पारी को संभाल लिया था.

कप्तान मैकुलम 224 रन की शानदार पारी खेलकर अंतिम विकेट के रूप में आउट हुए. उन्होंने 307 गेंदों का सामना किया और 29 चौके तथा पाँच छक्के लगाए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार