एशिया कप: भारत कैसे पहुंचेगा फ़ाइनल में

  • 3 मार्च 2014
एशिया कप ट्रॉफ़ी इमेज कॉपीरइट Getty

एशिया कप के फ़ाइनल में भारत को उसके खिलाड़ी नहीं बल्कि दूसरी टीमों का दुर्भाग्य ही पहुंचा सकता है.

पाकिस्तान पहले ही एक बोनस अंक के साथ अब 9 अंक अपने खाते में जोड़ चुका है. दूसरी तरफ भारत के पास केवल 4 अंक हैं.

दोनों टीमों को एशिया कप में अब केवल एक-एक मैच खेलना है. भारत का मुक़ाबला अफ़ग़ानिस्तान से और पाकिस्तान का सामना बांग्लादेश से होना है.

अगर भारत, अफ़ग़ानिस्तान को बोनस अंक के साथ हराए और दूसरी तरफ पाकिस्तान, बांग्लादेश से एक बड़े अंतर से हार जाए, तभी भारत फ़ाइनल में पहुंच सकता है.

अन्यथा पाकिस्तान और श्रीलंका का फ़ाइनल में भिड़ना लगभग तय है.

पिछले दिनों दक्षिण अफ्रीका और न्यूज़ीलैंड में जब भारतीय टीम एक के बाद एक मैच हार रही थी, तब कहा जा रहा था कि भारतीय खिलाड़ी दक्षिण एशिया के बाहर अच्छा नहीं खेल पाते हैं.

अब तो एशिया कप में भारतीय टीम के निराशाजनक प्रदर्शन ने साबित कर दिया है कि दक्षिण एशिया में खेलना भी भारत के लिए बड़ी चुनौती बन गया है.

भारतीय टीम में अब कई बदलाव की ज़रूरत है.

सलामी जोड़ी की नाक़ामी

इमेज कॉपीरइट AP

भारतीय सलामी जोड़ी शिखर धवन और रोहित शर्मा इन दिनों एक बड़ी शुरुआत देने में नाक़ाम रहे हैं. दो-तीन मैचों में शिखर धवन ने कुछ बड़ा स्कोर ज़रूर बनाया है, लेकिन उनके प्रदर्शन में अभी निरंतरता नहीं है.

कुछ यही हाल रोहित शर्मा का है. मध्यक्रम में रवींद्र जड़ेजा, अंबाती रायडू और अंजिक्य रहाणे का भी लगभग यही हाल है. रहाणे फिर भी कुछ ठीकठाक खेल रहे हैं लेकिन पूरी भारतीय टीम इस समय कप्तान विराट कोहली पर ही निर्भर नज़र आती है.

इमेज कॉपीरइट AP

कप्तानी के दबाव में एशिया कप में विराट भी प्रभावित होते नज़र आ रहे हैं और वैसे भी केवल दो खिलाड़ियों के दम पर कोई टीम भला कैसे जीत सकती है.

कमज़ोर पड़ती गेंदबाज़ी

इसके अलावा भुवनेश्वर कुमार अब बेहद साधारण गेंदबाज़ नज़र आते हैं. वहीं रवींद्र जडेजा को किसी भी सूरत में विशेषज्ञ स्पिनर नहीं कहा जा सकता है. इसके अलावा टीम के कोचिंग स्टाफ पर भी गंभीर सवाल उठ रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP GETTY

यही हाल पाकिस्तान का भी है, लेकिन जब दो टीमें खेलेंगी तो कोई एक टीम तो जीतेगी ही. पाकिस्तान ने भी कोई प्रभावशाली अंदाज़ में भारत से जीत हासिल नहीं की.

पाकिस्तान के कप्तान मिसबाह-उल-हक़ अपनी बल्लेबाज़ी के दम पर टीम की धुरी ज़रूर बने हुए हैं लेकिन लगातार तीन मैचों में रन आउट होने से उनकी टीम संकट में फंसती रही है.

पाकिस्तान के सलामी बल्लेबाज़ शरजील ख़ान और अहमद शहज़ाद इन दिनों अच्छी फॉर्म में हैं लेकिन पाकिस्तान के पास मोहम्मद हफ़ीज़ के रूप में इन दिनों एक बेहतरीन ऑल राउंडर है.

भारत के ख़िलाफ़ मोहम्मद हफ़ीज़ ने 75 रनों की पारी खेलकर दिखा दिया कि वो कितने अच्छे बल्लेबाज़ भी हैं.

दबदबा किसका?

वैसे एशिया कप में अभी तक किसी टीम ने अपना दबदबा दिखाया है तो वह है श्रीलंका.

इमेज कॉपीरइट AP

कुमार संगकारा, महिला जयवर्धने, लाहिरु थिरीमन्ने और कप्तान एंजेलो मैथ्यूज़ अपनी बल्लेबाज़ी के दम पर टीम को मैच जिताने की क्षमता रखते हैं तो लसिथ मलिंगा ने दिखा दिया है कि भले ही उनकी रफ़्तार में कमी आई है.

उनके यॉर्कर आज भी ख़तरनाक हैं. लिहाज़ा श्रीलंका इस टूर्नामेंट को जीतने का सबसे बड़ा दावेदार माना जा सकता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार