दक्षिण अफ़्रीक़ा से पिछली हार का हिसाब चुका पाएगा भारत?

वर्ल्ड ट्वेंटी-ट्वेंटी में भारत इमेज कॉपीरइट Getty

बांग्लादेश में खेले जा रहे वर्ल्ड ट्वेंटी-ट्वेंटी क्रिकेट टूर्नामेंट में शुक्रवार को खेले जाने वाले दूसरे सेमीफ़ाइनल में भारत और दक्षिण अफ़्रीक़ा आमने-सामने होंगे.

इससे पहले भारत ने इस विश्व कप में बेहद शानदार प्रदर्शन करते हुए अपने ग्रुप में शीर्ष पर रहते हुए सेमीफ़ाइनल में अपनी जगह बनाई थी.

भारतीय टीम की ताक़त जहां स्पिन गेंदबाज़ी है तो वही दक्षिण अफ़्रीक़ा के तेज़ गेंदबाज़ डेल स्टेन ने अपना दमख़म दिखाया है. अमित मिश्रा और आर अश्विन ने न सिर्फ़ लगातार विकेट लिए हैं बल्कि उन्होंने विपक्षी बल्लेबाज़ों को बांध कर भी रखा है.

वैसे दक्षिण अफ़्रीक़ा के पास भी इमरान ताहिर जैसा प्रतिभाशाली स्पिनर है.

बल्लेबाज़ी में भारत के सलामी बल्लेबाज़ रोहित शर्मा और विराट कोहली ने लगातार रन बनाए है. इस विश्व कप में दरअसल भारतीय गेंदबाज़ों ने इतनी शानदार गेंदबाज़ी की है कि उन्होंने बल्लेबाज़ों का काम हर मैच में आसान किया.

सेमीफ़ाइनल में पहुंचने से पहले भारत ने पाकिस्तान, बांग्लादेश, वेस्टइंडीज़ और ऑस्ट्रेलिया को हराया.

दूसरी तरफ दक्षिण अफ़्रीक़ा ने न्यूज़ीलैंड, नीदरलैंड और इंग्लैंड को मात देकर सेमीफ़ाइनल तक का सफ़र तय किया.

भारत ने सुपर टेन के अपने आख़िरी मुक़ाबले में ऑस्ट्रेलिया को 73 रन से करारी मात दी थी.

युवराज की फ़िटनेस

इमेज कॉपीरइट AFP

उस मैच में ऑस्ट्रेलिया के सामने जीत के लिए 160 रनों का लक्ष्य था जबकि वह केवल 16.2 ओवर में महज़ 86 रनों पर सिमट गई.

आर अश्विन ने 3.2 ओवर में 11 रन देकर चार और अमित मिश्रा ने तीन ओवर में 13 रन देकर दो विकेट हासिल किए, यानि इन दोनों गेंदबाज़ों ने मैच में बडा अंतर पैदा किया.

इसके बावजूद भारत के लिए कुछ चिंता युवराज सिंह और शिखर धवन है. युवराज सिंह शायद पूरी तरह फ़िट नहीं हैं तो शिखर धवन इस टूर्नामेंट में अपने बल्ले से कुछ ख़ास नही कर सके है.

पिछले मुक़ाबले में कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने उनकी जगह अजिंक्य रहाणे को टीम में शामिल किया था. अब यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या धोनी दक्षिण अफ़्रीक़ा के ख़िलाफ़ शिखर को मौक़ा देते या फिर रहाणे ही टीम में बने रहेंगे.

अगर युवराज सिंह फ़िटनेस की वजह से नहीं खेल पाते हैं तो फिर यह दोनों खिलाड़ी टीम में खेल सकते हैं. युवराज सिंह ने ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ अपनी खोई फ़ॉर्म वापस हासिल करते हुए केवल 43 गेंदो पर पांच चौके और चार छक्के लगाते हुए शानदार 60 रन बनाए.

यानि युवराज सिंह की कमी भारत को खल सकती है. भारतीय गेंदबाज़ों ने सुपर टेन के किसी भी मुक़ाबले में विरोधी टीम को 138 रन से अधिक रन बनाने का अवसर नहीं दिया जबकि भारतीय गेंदबाज़ी ही पिछले लंबे समय से महंगी साबित हो रही थी.

दक्षिण अफ़्रीक़ा की तैयारी

इमेज कॉपीरइट AP

इस टूर्नामेंट में भारत के ख़िलाफ़ सबसे अधिक रन बांग्लादेश ने बनाए वह भी सात विकेट खोकर 138 रन. जवाब में भारत ने उसे आठ विकेट से हराया.

दूसरी तरफ दक्षिण अफ़्रीक़ी टीम में हाशिम आमला, एबी डिविलियर्स, जेपी डूमिनी और क्विंटन डी कोक जैसे आक्रामक बल्लेबाज़ है.

दक्षिण अफ़्रीक़ा ने सूपर टेन में न्यूज़ीलैंड को महज़ दो रन से हराया था और वह एक बेहद रोमांचक मुक़ाबला था. डेल स्टेन ने अपनी तूफ़ानी गेंदों से न्यूज़ीलैंड के मुंह से जीत छीन ली थी.

इसके अलावा दक्षिण अफ़्रीक़ा के गेंदबाज़ों ने ही नीदरलैंड के ख़िलाफ़ टीम को हार से बचाया जब जीत के लिए 146 रनों का पीछा करते हुए नीदरलैंड की टीम संघर्ष करते हुए 18 ओवर में 139 रन बना सकी और केवल छह रन से हारी.

अब देखना है कि एक के बाद एक आसान जीत के साथ सेमीफ़ाइनल में पहुंचने वाली भारतीय क्रिकेट टीम क्या दक्षिण अफ़्रीक़ा के ख़िलाफ़ भी आसानी से खेल पाएगी या फिर दक्षिण अफ़्रीक़ा मुश्किलें पैदा कर पाती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार