आईपीएल स्पॉट फ़िक्सिंग: श्रीनिवासन और अन्य की जांच को तैयार जस्टिस मुद्गल

एन श्रीनिवासन इमेज कॉपीरइट AFP

जस्टिस मुद्गल ने सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि वो भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के पूर्व चेयरमैन एन. श्रीनिवासन और आईपीएल में स्पॉट फिक्सिंग और सट्टेबाजी से कथित तौर पर जुड़े 12 दूसरे लोगों के खिलाफ़ जांच करने को तैयार हैं.

इन 12 लोगों में कुछ बड़े खिलाड़ियों का नाम भी शामिल होने की बात कही जा रही है.

मंगलवार को मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने जस्टिस मुद्गल समिति से पूछा था कि क्या वो आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग और सट्टा के सिलसिले में एन. श्रीनिवासन और 12 दूसरे लोगों के खिलाफ आगे और जांच करना चाहेंगे?

न्यायमूर्ति एके पटनाईक की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि अगर समिति चाहे तो उसे जांच एजेंसियों की सहायता भी मुहैया कराई जाएगी. जांच के दायरे में कई प्रसिद्ध क्रिकेट खिलाड़ी भी शामिल हैं.

जस्टिस मुद्गल की सहमति के बाद अब सुप्रीम कोर्ट को इस मामले में फ़ैसला लेना है.

बीसीसीआई को झटका

इमेज कॉपीरइट BCCI
Image caption स्पॉट फिक्सिंग के आरोपों के बाद भारत में खले की साख को झटका लगा है

इससे पहले भारत में क्रिकेट की नियामक संस्था बीसीसीआई ने सुप्रीम कोर्ट को सामने तीन सदस्यीय जांच पैनल का प्रस्ताव रखा था, जिसे देश की सर्वोच्च न्यायालय ने हितों के टकराव के आधार पर ख़ारिज कर दिया.

जिन 13 लोगों की जांच की बात कही गई है, उनके नाम अभी तक सार्वजनिक नहीं हुए हैं.

बोर्ड ने जिस तीन सदस्यीय जांच दल का नाम सुझाया था उनमें भारत के आल-राउंडर खिलाड़ी रवि शास्त्री, कलकत्ता उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश जे.ए. पटेल और सीबीआई के पूर्व निदेशक आरके राघवन के नाम शामिल थे.

आईपीएल के पिछले संस्करण में स्पॉट फिक्सिंग और सट्टेबाज़ी के आरोपों की जाँच के लिए सुप्रीम कोर्ट ने अक्टूबर में मुद्गल समिति का गठन किया था.

इस समिति ने इस साल फ़रवरी में अपनी रिपोर्ट पेश की थी. समिति ने साथ ही अदालत को एक सीलबंद लिफाफा भी सौंपा था जिसमें ख़बरों के मुताबिक़ 13 लोगों के नाम थे. समिति ने रिपोर्ट में कहा था कि इन लोगों की व्यापक जाँच किए जाने की ज़रूरत है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार