भारत में आज से बैडमिंटन का 'वर्ल्ड कप'

अश्विनी पोनप्पा, ज्वाला गुट्टा, इमेज कॉपीरइट ADESH GUPT

बैंडमिंटन का विश्वकप माने जाने वाले थॉमस कप और उबेर कप के मुकाबले दिल्ली में रविवार से शुरू हो रहे हैं. थॉमस कप को पुरुष वर्ग और उबेर कप को महिला वर्ग में बैडमिंटन का विश्वकप माना जाता है.

थॉमस कप में भारत की चुनौती मुख्य रूप में पी कश्यप होंगे. उनके अलावा के श्रीकांत, गुरुसाईं दत्त और युगल वर्ग में अरुण विष्णु भी टीम को मज़बूती देंगे.

थॉमस कप में भारत को ग्रुप सी में मलेशिया, कोरिया, जर्मनी के साथ रखा गया है जिसे ग्रुप ऑफ डेथ भी माना जा रहा है.

पुरुषों के थॉमस कप मुक़ाबलों में पांच बार के विश्व चैंपियन चीन के लिन डैन और फिलहाल दुनिया के नम्बर एक खिलाड़ी मलेशिया के ली चोंग वेई मुख्य आकर्षण हैं.

महिला टीम मजबूत

लंदन ओलपिंक में क्वॉर्टर फाइनल तक पहुंचने वाले भारत के पी कश्यप कहते हैं, "यह एक बड़ा टूर्नामेंट है और हम सभी खिलाड़ी बेहद उत्साहित हैं. अधिकतर खिलाड़ी तो पहली बार थॉमस कप खेल रहे हैं."

इमेज कॉपीरइट ADESH GUPT

वह कहते हैं, "हमारा ग्रुप बहुत मुश्किल है क्योंकि मलेशिया के ली चोंग वेई के अलावा उनके दूसरे नम्बर के खिलाड़ी भी बहुत अच्छे हैं. जर्मनी और कोरिया की टीम में भी कम से कम दो खिलाड़ी शीर्ष रैंकिंग में हैं. हमारे युगल खिलाड़ी थोड़ा कमज़ोर हैं इसलिए सारा दारोमदार एकल मुक़ाबलों पर है."

महिला वर्ग के उबेर कप मुक़ाबलों में भारत की चुनौती लंदन ओलंपिक खेलों की कांस्य पदक विजेता साइना नेहवाल, पिछले दिनों एशियन बैडमिंटन चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाली पीवी सिंधू तथा महिला युगल वर्ग में जानी-पहचानी जोड़ी ज्वाला गुट्टा और अश्विनी पोनप्पा पर रहेगी.

पुरुषों के मुक़ाबले भारतीय महिला बैडमिंटन टीम कहीं अधिक मज़बूत नज़र आती है. पीवी सिंधू के अलावा ज्वाला गुट्टा और अश्विनी पोनप्पा की जोड़ी ने भी एशियन चैंपियनशिप में महिला युगला वर्ग में कांस्य पदक जीता था. उबेर कप में भारत को ग्रुप सी में थाईलैंड, कनाडा और हॉंगकॉंग के साथ रखा गया है.

महिला वर्ग में ओलंपिक चैंपियन और दुनिया की नम्बर एक बैडमिंटन खिलाड़ी चीन की ली झुई रूई और दूसरे नम्बर की खिलाड़ी चीन की ही शिझियान वांग और तीसरे नम्बर की खिलाड़ी यिहान वांग की चुनौती सबसे दमदार है. यिहान भी चीन की खिलाड़ी हैं.

भारत की उम्मीदें

इमेज कॉपीरइट ADESH GUPT

चैंपियनशिप में तीन एकल मुक़ाबले खेले जाएंगे जिससे एकल खिलाड़ी ही अपनी टीम की जीत में अहम भूमिका निभाएंगे.

उबेर कप में भारत की कप्तानी का भार साइना नेहवाल के कंधों पर रहेगा. वह कहती हैं, "भारतीय खिलाड़ी पिछले कुछ समय से बहुत अच्छा खेल रहे हैं. पहला एकल मुक़ाबला मैं खेल रही हूं जो बेहद महत्वपूर्ण रहेगा. पीवी सिंधू और ज्वाला तथा अश्विनी ने एशियन बैडमिंटन चैंपियनशिप में शानदार प्रदर्शन किया है तो टीम में उम्मीद की जा सकती है."

पुरुषों के मुक़ाबले महिला वर्ग में अपेक्षाकृत आसान ग्रुप के लेकर ज्वाला गुट्टा कहती हैं कि वाकई यह बात सही है और 'अब हमें इस स्थिति का लाभ उठाना चाहिए.'

ज्वाला गुट्टा के साथ मिलकर महिला युगल वर्ग में कई यादगार उपलब्धियां हासिल करने वाली अश्विनी पोनप्पा कहती हैं, "अब भारत में एकल खिलाड़ियों की कामयाबी के बाद उन्हें भी पहचान मिली है, जो उत्साहित करती है."

इमेज कॉपीरइट ADESH GUPT

ज्वाला-अश्विनी की जोड़ी ने विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप में भी महिला युगल वर्ग में कांस्य पदक जीता था. अश्विनी कहती हैं कि घरेलू परिस्थितियों का लाभ भी भारत को मिलेगा.

महिला एकल वर्ग में साइना नेहवाल के अलावा भारत की सबसे बड़ी ताक़त पीवी सिंधू है. अगर उन्होंने दबाव से उभरकर अपना खेल दिखाया तो यक़ीनन भारत उबेर कप में क्वॉर्टर फाइनल तक पहुंचने की क्षमता तो रखता ही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार