फ़ुटबाल विश्वकप: क़तर की मेज़बानी के फैसले पर जांच की मांग

फीफा क़तर इमेज कॉपीरइट AFP

क़तर को वर्ष 2022 में होने वाले फ़ुटबॉल विश्व कप की मेज़बानी देने के फैसले की वजह से फ़ुटबॉल मैचों का संचालन और प्रबंधन करने वाली संस्था फ़ीफ़ा पर दबाव बढ़ता जा रहा है.

मुख्य प्रायोजकों में से एक बहुराष्ट्रीय कंपनी सोनी ने बोली लगाने के दौरान में घपले के दावों की 'उपयुक्त जांच' की मांग की है.

क़तर ने आरोपों से इंकार किया है.

फ़ीफ़ा कार्यकारिणी में पहली बार महिला सदस्य

इस बीच ब्रिटेन के अख़बार दि संडे टाइम्स ने लाखों गोपनीय सूचनाओं के आधार पर नए तथ्य प्रकाशित किए हैं.

क़तर को दिसंबर 2010 में वर्ष 2022 के फ़ुटबॉल विश्व कप के आयोजन का अधिकार मिला था.

फ़ीफ़ा वर्ल्ड कपः मेज़बानी छोड़ने पर क़तर राज़ी नहीं

इस फ़ैसले पर जांच का दबाव फ़ीफ़ा के उपाध्यक्ष जिम बॉयसी के उस बयान के बाद बढ़ गया जिसमें उन्होंने कहा था अगर भ्रष्टाचार के आरोप साबित हो जाते हैं तो वह नए मेज़बान देश की तलाश के लिए दोबारा मतदान कराने का समर्थन करेंगे.

पिछले सप्ताह दि संडे टाइम्स ने दावा किया था कि क़तर के पूर्व फ़ीफ़ा उपाध्यक्ष मोहम्मद बिन हम्माम ने दिसम्बर 2010 में क़तर को आयोजन का अधिकार दिलाने के लिए समर्थन पाने के मकसद से पूरी दुनिया में फुटबॉल अधिकारियों को 30 लाख पाउंड ( क़रीब 30 करोड़ रुपये) रिश्वत के तौर पर दिए.

आरोप

इमेज कॉपीरइट AFP

बिन हम्माम पर यह आरोप है कि उन्होंने अपने देश के लिए इस टूर्नामेंट को सुरक्षित करने के लिए क़तर के शाही परिवार और सरकार से जुड़े अपने उच्चस्तरीय संपर्कों का इस्तेमाल किया.

कुछ ईमेल के मुताबिक़, 2018 और 2022 के विश्व कप के लिए होने वाले मतदान से एक महीने पहले बिन हम्माम ने रूस और क़तर के बीच द्विपक्षीय संबंधों की चर्चा करने के लिए रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मुलाक़ात की.

इसके अलावा उन्होंने थाईलैंड के फ़ीफ़ा अधिकारियों से भी सरकारी स्तर की बातचीत कर क़तर से थाईलैंड तक गैस का आयात करने के क़रार को आगे बढ़ाने की बात कही.

हालांकि क़तर की आयोजन समिति ने किसी भी तरह की गड़बड़ी के आरोपों को ख़ारिज करते हुए कहा है कि बिन हम्माम ने आधिकारिक या अनौपचारिक तौर पर बोली में कोई भूमिका नहीं निभाई है.

हालांकि कुछ ईमेल से अंदाज़ा मिलता है कि बिन हम्माम को वर्ष 2012 में किसी दूसरे भ्रष्टाचार के मामले में उनकी कथित भूमिका के लिए फ़ुटबॉल से जुड़े रहने पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया गया था.

लेकिन इसके बावजूद वह क़तर के पक्ष में बोली लगाने के लिए पुरज़ोर कोशिश कर रहे थे.

हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि बिन हम्माम या फिर बोली प्रक्रिया की वजह से फ़ीफ़ा के नियमों का उल्लंघन हुआ है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार