क्वार्टर फ़ाइनल में आठ टीमें कौन?

नेमार इमेज कॉपीरइट Getty

ब्राज़ील में चल रहे विश्व कप फ़ुटबॉल टूर्नामेंट में शनिवार से दूसरे दौर या फिर कहिए कि राउंड ऑफ़ 16 के मुक़ाबले शुरू होने जा रहे हैं.

यह नॉक आउट दौर है यानी जो हारेगा वह टूर्नामेंट से बाहर हो जाएगा. जीतने वाली टीमें अंतिम आठ में पहुंच जाएंगी.

इन प्री क्वार्टर फ़ाइनल मैचों की शुरुआत मेज़बान ब्राज़ील और चिली के बीच होने वाले मुक़ाबले से होने जा रही है.

अब टीमें ग्रुप स्टेज से निकल चुकी हैं. शनिवार को ही एक अन्य मुक़ाबले में कोलंबिया और उरुग्वे आमने-सामने होंगे.

ब्राज़ील और चिली के बीच होने वाले मुक़ाबले के बारे में जाने-माने फुटबॉल समीक्षक नोवी कपाड़िया मानते हैं कि इतिहास ब्राज़ील के पक्ष में है.

पिछले विश्व कप 2010 में भी इसी दिन 28 जून को दूसरे दौर में ब्राज़ील ने आसानी से चिली को हरा दिया था.

अलग आक्रामक टीम

इमेज कॉपीरइट AFP

इसके अलावा 1962 में विश्व कप सेमीफाइनल में ब्राज़ील ने चिली को हराया था. चिली की यह टीम बेहद आक्रामक खेलती है.

इसके अलावा यह पूरी टीम फ़िट है. इसके गोलकीपर क्लाउडियो ब्रावो टीम की जान हैं.

ग्रुप मैच में स्पेन को 2-0 से हराने के बाद इनके हौसले बुलंद हैं. नोवी कपाड़िया कहते हैं कि ब्राज़ील की टीम नेमार पर निर्भर हो गई है.

सुआरेज़ के बिना होगी मुश्किल

कोलंबिया और उरुग्वे के बीच होने वाले मैच को लेकर नोवी कपाड़िया मानते है कि यहां एक दक्षिण अमरीकी टीम बाहर हो जाएगी.

इमेज कॉपीरइट Reuters

कोलंबिया के कोच जोसे पेकरमैन टीम में एक क्रांति लाने में कामयाब रहे. कोलंबिया के युवा खिलाड़ी किसी भी डिफ़ेंस को खतरे में डाल सकते हैं.

नोवी कपाड़िया के मुताबिक़ यह मैच कोलंबिया के आक्रमण और उरुग्वे की रक्षा-पंक्ति के बीच होगा.

उरुग्वे के स्टार खिलाड़ी सुआरेज़ पर नौ मैचों का प्रतिबंध लग चुका है ऐसे में उसकी मुश्किलें बढ़ी हुई हैं. नतीजतन, अब कोलंबिया के डिफ़ेंडर भी अटैक करने जा सकते है.

नोवी कहते हैं कि अब देखना है कि सुआरेज़ की जगह उरुग्वे किस दूसरे फ़ॉरवर्ड को खिलाता है. कोलंबिया के तेज़ आक्रमण के जाल से निकलना उरुग्वे के लिए आसान नहीं होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार