तनातनी के बीच टीम इंडिया से कितनी उम्मीदें?

  • 27 अगस्त 2014
महेंद्र सिंह धोनी, विराट कोहली और रवींद्र जडेजा इमेज कॉपीरइट AP

भारतीय क्रिकेट टीम बुधवार को कार्डिफ़ में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ दूसरा एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच खेलने के लिए मैदान में उतरेगी.

दोनों टीमें ब्रिस्टल में खेले गए पहले एकदिवसीय मैच के दौरान पैवेलियन में ही बैठी रह गईं थीं क्योंकि बारिश के कारण एक भी गेंद खेली नहीं जा सकी थी.

इसी बीच भारत के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने यह कहकर बासी कढ़ी में उबाल ला दिया कि भारतीय क्रिकेट टीम के असली बॉस कोच डंकन फ्लेचर हैं.

जबकि इससे पहले बीसीसीआई यानी भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने पूर्व कप्तान रवि शास्त्री को एकदिवसीय सिरीज़ के दौरान टीम का डायरेक्टर बनाकर टेस्ट सिरीज़ में इंग्लैंड के हाथों मिली हार के बाद गुस्साए क्रिकेट प्रेमियों को शांत करने की कोशिश की थी.

दूसरी तरफ रवि शास्त्री ने भी नहले पर दहला मारते हुए कहा कि टीम के एकमात्र बॉस तो कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ही हैं.

पढ़ें खेल पत्रकार आदेश गुप्त का विश्लेषण

आशंका के बादल

इमेज कॉपीरइट Getty

क्या बीसीसीआई का कदम और धोनी का बयान एक-दूसरे को सम्मान देने के लिए हैं या एक-दूसरे पर व्यंग्य कसने के लिए.

अब कहा तो ये जा रहा है कि इस मसले को लेकर बोर्ड और धोनी के बीच भी मतभेद की स्थिति पैदा हो गई है.

एक तरफ जहां कार्डिफ़ में होने वाले दूसरे एकदिवसीय मैच पर भी बारिश का साया रहने की आशंका जताई जा रही है, वहीं टीम में ऐसे माहौल के बीच भारत से अच्छे प्रदर्शन की उम्मीदों पर भी आशंका के बादल छा गए हैं.

लॉर्ड्स में दूसरा टेस्ट मैच जीतने के बाद भारतीय टीम का जोश सातवें आसमान पर होना चाहिए था लेकिन इंग्लैंड ने ऐसा पलटवार किया कि उसने पीछे मुड़कर नहीं देखा और बाकी बचे तीनों टेस्ट मैच ऐसे जीते जैसे यह उनके बाएं हाथ का खेल हो.

टीमों की ताकत

इमेज कॉपीरइट Getty

अपने ही घर में भीगी बिल्ली बने इंग्लैंड के कप्तान और उनकी पूरी टीम अचानक शेर हो गई. ऐसा लगा जैसे भारत ने इंग्लैंड को संजीवनी बूटी दे दी है.

अब पहले एकदिवसीय मैच के रद्द होने के बाद न तो भारत के हालात दो दिनों में ही अधिक बदले हैं और न ही इंग्लैंड के हौसलों में कोई कमी आई होगी.

टेस्ट सिरिज़ में जेम्स एंडरसन के विवाद का असर सभी देख चुके हैं, अब बोर्ड, धोनी, कोच फ्लैचर और रवि शास्त्री के बीच नई तनातनी का असर एकदिवसीय सिरिज़ पर भी पड़े तो हैरानी नहीं होना चाहिए.

वैसे कार्डिफ़ में मौसम अगर मेहरबान रहा तो दोनों टीमों की ताक़त का वास्तविक अंदाज़ा भी हो जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्वीटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार