'तेलंगाना अंबेसडर पर विवाद बेवक़ूफ़ी'

सानिया मिर्ज़ा इमेज कॉपीरइट Salim Rizvi

यूएस ओपन टेनिस में महिलाओं के डबल्स में 5वीं वरीयता प्राप्त सानिया मिर्ज़ा और कारा ब्लैक की जोड़ी दूसरे राउंड में पहुंच गई है.

सानिया मिर्ज़ा ने ब्राज़ील के ब्रूनो सारेस के साथ खेलते हुए मिक्सड डबल्स का मैच भी जीतकर दूसरे दौर में प्रवेश कर लिया है. मैच के बाद सानिया मिर्ज़ा ने बीबीसी हिंदी से ख़ास बातचीत की.

पढ़िए सानिया मिर्ज़ा से पूरी बातचीत

इमेज कॉपीरइट AFP

अपने करियर की इस बेस्ट रैंकिंग पर पहुँचकर कैसा महसूस कर रही हैं?

मुझे बहुत अच्छा लग रहा है. बहुत ख़ुशी है कि मैं इस मुक़ाम तक पहुँचीं. हर खिलाड़ी का यह सपना होता है कि वह अच्छी रैंकिंग पर खेले.

यह पूरा साल आपने कारा ब्लैक के साथ खेला है. उनके बारे में कुछ बताएं?

आप जब किसी के साथ लंबे समय तक खेलते हैं और उसके साथ कोर्ट के बाहर भी संबंध अच्छे रहते हैं, तो आपके बीच का तालमेल कोर्ट पर भी दिखाई देता है. हम लगातार अच्छा खेल रहे हैं. इससे मैं बहुत ख़ुश हूँ.

आपका शेड्यूल काफ़ी बिज़ी है?

मुझे लगता है कि टेनिस एक ऐसा खेल है जिसे लोगों को समझने में काफ़ी दिक़्क़त होती है. कई सारे खेल ऐसे होते हैं, जिसमें एक टूर्नामेंट के बाद अगले एक-दो महीने तक कोई टूर्नामेंट नहीं होता है. लेकिन टेनिस में ऐसा नहीं हैं. इसमें सीज़न अक्तूबर या नवंबर में जाकर ख़त्म होता है. इसलिए आपको पूरे साल यात्रा करते रहना पड़ता है. यह टेनिस को और चैलेंजिंग बनाता है.

इमेज कॉपीरइट AFP

इतनी अधिक यात्राएं और थकाने वाला खेल होने की वजह से टेनिस शरीर पर कितना प्रभाव डालता है?

मुझे लगता है कि इसी वजह से खिलाड़ी चोटिल भी बहुत होते हैं. खेलने के दौरान जो देखते हैं, वह हमारे काम का केवल 10-15 फ़ीसदी ही होता हैं. हमारी बाक़ी की मेहनत तो बाहर होती है. आज टेनिस इतना कठिन हो गया है कि शरीर को हमेशा फ़िट रहने की ज़रूरत होती है.

इमेज कॉपीरइट Getty

आपकी टेनिस अकादमी कैसी चल रही है?

बहुत अच्छी चल रही है. अच्छी प्रतिक्रियाएं आ रही हैं. उम्मीद है कि अगले कुछ सालों में कुछ अच्छे खिलाड़ी वहाँ से निकलें.

अगर आप अपने समय से तुलना करें तो क्या आपको लगता है कि लोगों का रवैया बदला है और उनकी मानसिकता बदली है, ख़ासकर महिला टेनिस के क्षेत्र में?

हां, निश्चित रूप से बदलाव आया है. दस साल पहले तक कोई जानता भी नहीं था महिला टेनिस के बारे में. साल 2005 में जब मैंने बड़ी सफलताएं हासिल कीं तो उसके बाद मुझे सबलोग जानने लगे. आज मैं दुनिया के किसी भी हिस्से में जाऊं लोग मुझे पहचान लेते हैं.

इमेज कॉपीरइट PTI

तेलंगाना का ब्रांड अंबेसडर बनाए जाने को लेकर विवाद हुआ. कुछ लोगों ने आपकी भारतीयता को लेकर सवाल उठाए, आपका क्या कहना है?

मुझे जो कहना था, वह मैं पहले ही कह चुकी हूँ. यह बेवक़ूफ़ी की बात थी. अब मैं उसमें पीछे नहीं लौटना चाहती हूं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार