15 खिलाड़ियों को अर्जुन पुरस्कार

  • 29 अगस्त 2014
अर्जुन पुरस्कार विजेता

आखिरकार कुछ विवादों के बीच खेलों में उल्लेखनीय प्रदर्शन करने वाले 15 खिलाड़ियों को अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

अर्जुन पुरस्कार को लेकर इस बार भी विवाद रहा. नए प्वाइंट सिस्टम के तहत क्वालिफाई करने के बावजूद मुक्केबाज मनोज कुमार को यह पुरस्कार नहीं मिला और वह इस मामले को अदालत तक ले गए.

अर्जुन पुरस्कार विजेता: आर अश्विन (क्रिकेट), अभिषेक वर्मा (तीरंदाज़ी), टिंटू लुका (एथलेटिक्स), वी दीजू (बैडमिंटन), एच एन गीरिशा (पैरालंपिक एथलेटिक्स), गीतू जोस (बास्केटबॉल), जय भगवान (मुक्केबाज़ी), अनिर्बान लाहिड़ी (गोल्फ़), ममता पुजारी (कबड्डी), साजी थॉमस (नौकायन), हीना सिद्धू (निशानेबाज़ी), अनाका अलानकामनी (स्कवॉश), टॉम जोसफ़ (वॉलीबॉल), रेनूबाला चानू (भारोत्तोलन) और सुनील राणा (कुश्ती).

इसके अलावा पांच कोच द्रोणाचार्य पुरस्कार से नवाजे गए हैं. चार संस्थाओं को राष्ट्रीय खेल प्रोत्साहन पुरस्कार दिया गया.

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने एक समारोह में यह पुरस्कार दिए.

सुनील राणा ग्रीको-रोमन कुश्ती के पहलवान हैं. उन्होंने 2010 में ग्वांगझो में एशियाई खेलों में तीन दशक बाद भारत को पदक दिलाया था.

तीरंदाज़ अभिषेक वर्मा ने विश्व कप तीरंदाज़ी में कंपाउंड मिक्स्ड पेयर में सिल्वर मेडल जीता था.

टिंटू लुका ने 2010 एशियाई खेलों में 800 मीटर दौड में कांस्य पदक जीता था. पी टी ऊषा उनकी कोच हैं. पीटी ऊषा का मानना हैं कि अभी भी गांव-देहात तक सुविधाएं नहीं पहुंची हैं.

हिना सिद्धू निशानेबाज़ी की पिस्टल स्पर्धा में दुनिया की नम्बर एक खिलाड़ी बनने वाली पहली भारतीय महिला निशानेबाज़ हैं.

23 वर्षीय स्क्वॉश खिलाड़ी अनाका अलांकामोनी को अर्जुन पुरस्कार को लेकर कुछ सवाल उठे थे. वह राष्ट्रीय चैंपियन नहीं हैं और पिछले चार साल में उनकी रैंकिंग में लगातार गिरावट आई है.

ममता पुजारी विश्व कबड्डी चैंपियनशिप में भारतीय टीम की कप्तान रहीं. वह अपनी कामयाबी का श्रेय अपने परिवार ख़ासकर अपने पति को देती हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार