भारत आज जीत जाएगा वनडे सिरीज़?

भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी इमेज कॉपीरइट AFP GETTY

मंगलवार को मेज़बान इंग्लैंड के ख़िलाफ चौथा एकदिवसीय अंतराष्ट्रीय क्रिकेट मैच खेलने के लिए भारतीय टीम जब एजबैस्टन के मैदान पर उतरेगी तो उसका उद्देश्य जीत के साथ मौजूदा सिरीज़ को भी अपने नाम करना होगा.

आईसीसी वन डे रैंकिंग में जिम्बाब्वे की ऑस्ट्रेलिया पर 31 साल बाद हैरतअंगेज़ जीत की बदौलत धोनी की टीम पहले ही शीर्ष रैकिंग पर पहुंच गई है.

इससे पहले भारतीय क्रिकेट टीम ने पांच मैचों की इस एकदिवसीय सिरीज़ में 2-0 की बढ़त बनाई हुई है. पहला मैच बारिश के कारण नहीं खेला जा सका था.

भारतीय क्रिकेट टीम क्या वाकई रातोंरात इतना बदल गई कि केवल दो एकदिवसीय मैचों के दम पर वह दुनिया की नंबर एक टीम बन गई है और वह भी तब जब इसी साल वह दक्षिण अफ्रीका और न्यूज़ीलैंड से उसी की ज़मीन पर एकदिवसीय सिरीज़ बुरी तरह हार गई थी.

सिरीज़ जीतने पर निगाह

इसे लेकर भारत के पूर्व टेस्ट क्रिकेटर आकाश चोपड़ा का मानना है कि भारतीय क्रिकेट टीम के खिलाड़ी शायद ही कभी रैंकिंग के बारे में सोचते हो.

इमेज कॉपीरइट Reuters

आकाश चोपड़ा कहते हैं, "दूसरी तरफ यह बात भी सच है कि भारतीय टीम दक्षिण अफ्रीका और न्यूज़ीलैंड में तो एक भी एकदिवसीय मैच नही जीत सकी. उसके बाद भारतीय टीम श्रीलंका और पाकिस्तान से एशिया कप में हारी."

"अब यह जो नंबरों को खेल है, उसमें पहले जैसी सच्चाई नही है. मुझे नही लगता कि भारत इस समय दुनिया की सबसे शानदार एकदिवसीय टीम है.

दूसरी तरफ़ इंग्लैंड के ख़िलाफ़ होने वाले चौथे एकदिवसीय मैच को लेकर आकाश चोपड़ा मानते हैं कि भारत का एकदिवसीय क्रिकेट खेलने का अंदाज़ इंग्लैंड से बेहतर है.

वे कहते हैं, "भारत के पास अवसर है कि वह इस मैच को जीतकर सिरीज़ अपने नाम कर ले लेकिन इसके साथ ही भारत टीम में कुछ परिवर्तन भी करे."

सलामी बल्लेबाज़

इमेज कॉपीरइट Getty

"अब केवल दो मैच बचे हैं और उसके बाद भारत को ऑस्ट्रेलिया में खेलना है और तब तक भारत को ज़रूर पता होना चाहिए कि विश्व कप के लिए उसके पास कौन से खिलाड़ी हैं. उमेश यादव को ज़रूर टीम में होना चाहिए. उनकी गेंदों में गति है, उन्हें अगर अब भी अवसर नही मिलेगा तो कब मिलेगा?"

"और अब अवसर आ गया है कि शिखर धवन की जगह मुरली विजय और फिरकी गेंदबाज़ करण शर्मा को भी मौका मिलना चाहिए."

आकाश चोपड़ा विराट कोहली की फ़ॉर्म में वापसी को लेकर मानते हैं कि ऐसा तो होना ही था, वह अधिक दिन तक खराब नहीं खेल सकते. अजिंक्य रहाणे ने एक सलामी बल्लेबाज़ की भूमिका को बेहतरीन अंदाज़ में निभाया लेकिन मौक़े का भरपूर फ़ायदा उठाया अंबाती रायडू ने. अब उनकी जगह टीम में पक्की है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार