विश्वनाथन को नहीं मिला जीत का आनंद

कार्लसन और आनंद इमेज कॉपीरइट EPA

चाय की चुस्की का टोटका भी विश्वनाथन आनंद के काम नहीं आया.

नॉर्वे के मैगनस कार्लसन के ख़िलाफ़ 11वीं बाजी हारने के साथ ही विश्वनाथन आनंद की विश्व शतरंज ख़िताब जीतने की उम्मीदें चकनाचूर हो गईं.

कार्लसन के 11 बाजियों के बाद साढ़े छह अंक थे और आनंद के चाढ़े चार. इस तरह कार्लसन ने विश्व ख़िताब पर अपना कब्ज़ा बरकरार रखा.

ख़िताब का फ़ैसला पहले ही हो जाने के कारण अब 12वीं बाज़ी खेलने की ज़रूरत नहीं होगी.

रूस के सोची शहर में खेली जा रही इस चैंपियनशिप में पांच बार के विश्व चैंपियन आनंद ने चौथे घंटे में अपनी बढ़त गंवा दी.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption भारत के ग्रैंडमास्टर विश्वनाथन आनंद पांच बार विश्व चैंपियन रहे हैं

टूर्नामेंट में आमतौर पर जूस की चुस्कियां ले रहे आनंद ने रविवार को चाय की चुस्कियों के बीच शुरुआत तो आक्रामक की, लेकिन 27वीं चाल में बड़ी चूक कर गए. कार्लसन ने इस मौके को लपक लिया और आनंद को वापसी का मौका नहीं दिया.

मैच के बाद कार्लसन ने कहा, "'टूर्नामेंट के दौरान शायद मैंने कुछेक मौकों पर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं किया, लेकिन बाद में मेरे प्रदर्शन में सुधार आया और मैं इससे बहुत खुश हूं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार