ह्यूज़ को सचिन और भारतीय दर्शक पसंद थे

  • 3 दिसंबर 2014
इमेज कॉपीरइट Getty

सिर में बाउंसर लगने से जान गंवाने वाले ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ फ़िल ह्यूज़़ का बुधवार को अंतिम संस्कार हो गया.

उनके असमय निधन से भारत के पूर्व तेज़ गेंदबाज़ सुब्रतो बनर्जी को भी गहरा धक्का लगा है.

ह्यूज़़ के साथ कुछ समय बिताने बाले सुब्रतो बनर्जी ने उनसे जुड़ी कुछ ख़ास बातों का ज़िक्र बीबीसी से किया.

फ़िल ह्यूज़़ को बटर चिकन, सचिन तेंदूलकर, और भारत का शोर मचाता हुआ जोशीले दर्शकों का समूह बेहद पसंद था.

एकाएक मौत

इमेज कॉपीरइट Getty

भारतीय बल्लेबाज विराट कोहली ऑस्टेलिया के मैक्सविले में ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ फ़िल ह्यूज़़ के अंतिम संस्कार में पहुंचे.

उनका एक ही सपना था कि एक दिन ऑस्ट्रेलिया के लिए खेलना. वह जब भी भारत आते साथ रहते, घूमते, रेस्तरां में जाकर खाना खाते.

उनकी एकाएक मौत से सुब्रतो बनर्जी को बेहद दुख है. सुबर्तो साल 2001 में ऑस्ट्रेलिया रहने के लिए चले गए थे.

इमेज कॉपीरइट Getty

ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ फ़िल ह्यूज़़ को अंतिम विदाई देने उनकी बहन मेगन ह्यूज भी पहुंचीं.

वहीं साल 2003-04 में उनकी मुलाक़ात फ़िल ह्यूज़़ के कोच नील डिकोस्टा से हुई. तब डिकोस्टा बल्लेबाज़ी और सुब्रतो बनर्जी गेंदबाज़ी का सत्र देखते थे.

इमेज कॉपीरइट Getty

फिल ह्यूज के अंतिम संस्कार में शरीक होने के लिए ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री टोनी एबॉट मैक्सविले पहुंचे.

वही से ह्यूज़ से उनकी मुलाक़ात दोस्ती में बदल गई. हालांकि उनके बीच उम्र का काफ़ी अंतर था. उस वक्त ह्यूज़़ की उम्र केवल 19 साल थी.

ह्यूज़़ अभ्यास के दौरान हर रोज़ सुब्रतो बनर्जी से मिलते थे. बनर्जी कहते हैं कि वो बड़े ज़िंदादिल इंसान भी थे. वह हर मैच में शानदार प्रदर्शन करने की कोशिश करते थे.

ह्यूज़ की पसंद

इमेज कॉपीरइट Getty

ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी माइकल क्लार्क अपनी पत्नी केली के साथ फिल ह्यूज को अंतिम भावभीनी विदाई देने पहुंचे.

ऑस्ट्रेलिया से वापस आने के बाद सुब्रतो बनर्जी नागपुर में रहने लगे.

ह्यूज़़ उनसे मिलने वहां भी पहुंचे और तीन दिन साथ रहे.

इमेज कॉपीरइट Getty

ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाज एरोन फिंक सहित कई लोग अंतिम संस्कार के लिए दिवंगत क्रिकेटर फिल ह्यूज का ताबूत ले जाते हुए.

साथ ही बाहर डिनर के लिए भी जाते थे. उन्हें सी फ़ूड और बटर चिकन बेहद पसंद था. बनर्जी भी जब ऑस्ट्रेलिया जाते तो ह्यूज़़ से ज़रूर मिलते.

बल्लेबाज़ी के लिए उनके मन के जुनून को देखकर सुब्रतो बनर्जी को पहले से ही आभास था कि वह एक दिन ऑस्ट्रेलिया के लिए ज़रूर खेलेंगे.

इमेज कॉपीरइट Getty

अंतिम संस्कार में ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर स्टीव स्मिथ डेनियल विलीज के साथ.

वह जब भी भारत आते अपनी बल्लेबाज़ी की तकनीक की बात करते. कहते कि मुझे भारत में इतने सारे लोगों के शोर के बीच आईपीएल खेलना है.

इसके जवाब में बनर्जी ने उन्हे एक बार सचिन तेंदुलकर से मिलवाया.

इमेज कॉपीरइट Getty

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर फिल ह्यूज के अंतिम संस्कार में शामिल लोग भावभीनी मुद्रा में.

सचिन ने उन्हें समझाया कि कैसे खेलना है और बाद में तो वह मुबंई इंडियंस के लिए आईपीएल में भी खेले.

ह्यूज़़ और ऑस्ट्रेलिया के कप्तान माइकल क्लार्क को लेकर सुब्रतो बनर्जी ने बताया कि दोनो एक ही कोच नील डिकोस्टा से कोचिंग लेते थे.

इमेज कॉपीरइट Getty

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर नाथन लियोन अपनी नन्ही बच्ची को गोद में लिए फिल ह्यूज के अंतिम संस्कार समारोह में दिखें.

दोनों बचपन के दोस्त थे और उनमें भाई जैसा रिश्ता था. सुब्रतो बनर्जी उदास हैं कि ऐसा इंसान उनके बीच नहीं रहा.

भाई जैसा रिश्ता

इमेज कॉपीरइट Getty

अंतिम संस्कार में फादर के साथ ऑस्ट्रलिया के प्रधानमंत्री.

इमेज कॉपीरइट Getty

फिल ह्यूज के अंतिम संस्कार में हिस्सा लेने के लिए न्यू साउथ वेल्स के क्रिकेटर सिएन एबॉट पहुंचे.

सुब्रतो बनर्जी साल 1991-92 में ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड में संयुक्त रूप से आयोजित विश्व कप क्रिकेट टूर्नामेंट में भारतीय टीम का हिस्सा रह चुके हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार