श्रीनिवासन हितों के टकराव से बचें: कोर्ट

  • 8 दिसंबर 2014
इमेज कॉपीरइट AFP

सुप्रीम कोर्ट ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड से कहा है कि क्रिकेट की शुद्धता बरक़रार रखनी चाहिए और जो भी इससे जुड़ा है वो संदेह से ऊपर होना चाहिए.

अदालत के आदेश पर बीसीसीआई के अध्यक्ष पद से हटाए गए अध्यक्ष एन श्रीनिवासन ने कहा, “यहां तक कि हितों के टकराव की संभावना से भी बचा जाना चाहिए.”

आईपीएल-6 में कथित स्पॉट फ़िक्सिंग और सट्टेबाज़ी के आरोपों में श्रीनिवासन के दामाद और चेन्नई सुपरकिंग्स के अधिकारी गुरुनाथ मय्यपन को गिरफ़्तार किया गया है.

पिछली सुनवाई में अदालत ने श्रीनिवासन और उनके वकील कपिल सिब्बल से कहा था कि वो हितों के टकराव के मुद्दे से 'पर्दा हटाएं'.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption सवालों के घेरे में श्रीनिवासन

अदालत ने कहा था, “टीम का मालिक होना हितों का टकराव पैदा करता है. बीसीसीआई के अध्यक्ष को सब कुछ संचालित करना है लेकिन एक ऐसी भी टीम है जिसे लेकर सवाल उठते हैं और इसे अनदेखा नहीं किया जा सकता है.”

'तमाशा हो रहा है'

दूसरी तरफ़ इस मामले में अतिरिक्त सेशन कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को फटकार लगाई है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार अतिरिक्त सेशन जज नीना बंसल कृष्णा ने कहा, “पिछले छह महीने से तमाशा हो रहा है. पुलिस इस मामले में कुछ नहीं कर रही है. मैंने सुनवाई की तारीख तय की थी, लेकिन आप फिर मामले को स्थगित कराना चाहते हैं.”

जैसे ही सुनवाई शुरू हुई, अभियोजक राजीव मोहन ने कहा कि उन्हें सभी फाइलों और रिकॉर्डों को देखना है, इसलिए उन्हें कुछ और समय चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार